ISRO के नए चीफ बने एस सोमनाथ


 केंद्र सरकार की तरफ से वरिष्ठ रॉकेट वैज्ञानिक एस सोमनाथ को भारतीय अंतरिक्ष और अनुसंधान संगठन (इसरो) का अगला प्रमुख नियुक्त किया। तिरुवनंतपुरम स्थित विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर के डायरेक्टर एस सोमनाथ देश के बेहतरीन रॉकेट टेक्नोलॉजिस्ट और एयरोस्पेस इंजीनियर हैं। उन्होंने जीएसएलवी एमके-III लॉन्चर के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और अपने करियर के शुरुआती चरणों के दौरान पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (PSLV) के एकीकरण के टीम लीडर रह चुके हैं। 

उन्हें तीन साल के कार्यकाल के लिए अंतरिक्ष विभाग के सचिव और अंतरिक्ष आयोग के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया है। 22 जनवरी 2018 से विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (वीएसएससी) के निदेशक का नेतृत्व कर रहे हैं। सोमनाथ दुनिया की अग्रणी अंतरिक्ष एजेंसियों में से एक के अगले प्रमुख के रूप में के सिवन की जगह लेंगे। 

कौन हैं एस सोमनाथ 

एस सोमनाथ 1985 में वीएसएससी में शामिल हुए। वह जून 2010 से 2014 तक जीएसएलवी एमके- III के परियोजना निदेशक थे। वे नवंबर 2014 तक वीएसएससी में 'स्ट्रक्चर' इकाई के उप निदेशक और वीएसएससी में 'प्रणोदन और अंतरिक्ष अध्यादेश इकाई' के उप निदेशक भी थे। उन्होंने स्वदेशी क्रायोजेनिक चरणों के साथ जीएसएलवी के तीन सफल मिशनों और एलपीएससी द्वारा महसूस किए गए तरल चरणों के साथ पीएसएलवी के ग्यारह सफल मिशनों में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।एस सोमनाथ ने एर्नाकुलम से महाराजा कॉलेज से प्री-डिग्री प्रोग्राम पूरा करने के बाद केरल विश्वविद्यालय के क्विलॉन स्थित टीकेएम क़ॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की। फिर आईआईएससी से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में मास्टर की डिग्री हासिल की। उन्हें रॉकेट डायनेमिक्स और कंट्रोल पर विशेषज्ञता हासिल है। उन्होंने स्वदेशी क्रायोजेनिक चरणों के साथ जीएसएलवी के तीन सफल मिशनों और एलपीएससी द्वारा महसूस किए गए तरल चरणों के साथ पीएसएलवी के ग्यारह सफल मिशनों में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक