एएसपी व सीओ ने अति संवेदनशील मतदान केंद्रों का किया निरीक्षण


 बूथों पर सुरक्षा के इंतजाम चाक चैबंद करने के दिए निर्देश

टड़ियावां। विधानसभा चुनाव के मद्देनजर लोकतंत्र के त्योहार को सकुशल सम्पन्न कराने के लिए शासन प्रशासन ने तैयारियां तेज कर दी है। उपरोक्त क्रम में शुक्रवार के दिन अपर पुलिस अधीक्षक पश्चिमी दुर्गेश कुमार सिंह, क्षेत्राधिकारी हरियावां एवं प्रभारी निरीक्षक टड़ियावां ने गोपामऊ विधानसभा क्षेत्र के संवेदनशील व अतिसंवेदनशील मतदान केंद्रों व बूथों का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने सम्बंधित अधिकारियों को मतदान केंद्रों की व्यवस्था जैसे पानी, बिजली, सुरक्षा आदि के चाक चैबंद करने के निर्देश दिए। एएसपी दुर्गेश कुमार सिंह व सीओ हरियावां ने पुलिस बल के साथ जीआईसी टड़ियावां, जूनियर स्कूल टड़ियावां, टेनी, मुरादपुर, पेंग, गोपामऊ आदि कई मतदान केंद्रों का निरीक्षण किया। इस दौरान एएसपी ने बिजली, पानी व सुरक्षा व्यवस्था संबंधित जानकारी प्राप्त की और चल रही तैयारियों को जल्द से जल्द पूरा करने का निर्देश दिया। साथ पोलिंग बूथ पर मतदाताओं के हिसाब से जरूरी प्रबंधन करने के सम्बंधित अधिकारी को निर्देश दिए। इसके साथ उन्होंने विधानसभा चुनाव को शांति पूर्ण ढंग व सकुशल सम्पन्न कराने के लिए टड़ियावां कोतवाली प्रभारी निरीक्षक राजदेव मिश्र को सख्त निर्देश दिए और कहा असमाजिक तत्वों को जल्द चिन्हित कर और गड़बड़ी अफवाह फैलाने वाले लोगों खिलाई कड़ी कार्यवाही करें, लंबित वारंटी मामलों एवं कुर्की के मामलों को त्वरित निष्पादन करें और ड्यूटी में लापरवाही बिल्कुल बर्दाश्त नही होगी लापरवाही बरतने वाले पुलिस कर्मियों को चिन्हित कर उनपर कार्यवाही करें,चुनाव शांति पूर्ण तरीके से सम्पन्न हो इसके लिए क्षेत्रों में स्टैटिक बल और पेट्रोलिंग पार्टी के द्वारा लगातार गश्त लगाने के निर्देश जारी है। इस मौके पर सीओ हरियावां ने कहा कि शोशल मीडिया पर विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कड़ी नजर रखी जायेगी जो लोग आपत्तिजनक टिप्पणी पोस्ट करेंगे उनपर कठोर कार्यवाही की जाएगी। इस मौके पर सीओ हरियावां, थाना प्रभारी निरीक्षक राजदेव मिश्र एवं पुलिस बल आदि मौजूद रहे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक