कब्रिस्तान की जमीन के विवाद के चलते दूसरे दिन दफनाया गया शव


 मौके पर आला अधिकारी सहित भारी पुलिस बल रहा मौजूद 

मल्लावां। नगर के दरगाह के पास कब्रिस्तान में शव दफनाने को लेकर जमीन के विवाद में दूसरे दिन प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद दूसरी जगह कब्र खोदकर शव रखा जा सका। जब तक शव दफनाया न गया तब मल्लावां छावनी में तब्दील रहा, ऐसे में उच्चाधिकारियों के अलावा कई थानों की फोर्स तैनात रही। बताते चले नगर के मोहिउद्दीनपुर निवासी यामीन 55 वर्ष का बीमारी के चलते मंगलवार को निधन हो गया था। शव को दफन करने के लिए एक स्थान पर कब्र खोदकर शव को दफनाने की तैयारियों में परिजन सहित अन्य लोग लगे हुए थे। तभी राकेश गुप्ता ने उक्त भूमि पर न्यायालय में मुकदमे का हवाला देकर शव दफनाने पर एतराज कर दिया। उसके बाद मल्लावां कोतवाल सुनील कुमार सिंह पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचकर मामले की गम्भीरता से लेते हुए उच्चाधिकारियों को सूचना दी। शव दफनाने और कब्रिस्तान के मामले को लेकर एसडीएम बिलग्राम राहुल विश्वकर्मा, सीओ हेमंत उपाध्यक्ष, तहसीलदार राजेश कुमार मौके पर पहुंचकर परिजनों से वार्तालाप कर मामले को सुलझाने का प्रयास करते रहे लेकिन परिजन सहित भूमि की पैमाइस कराने पर अड़े रहे और शव ले जाकर बड़े दरवाजे के पास रखकर सुबह दफनाने की बात कही। बुधवार को परिजनों ने उच्चाधिकारियों की बात को मानते हुए दूसरी जगह कब्र खोदी और वहां पर शव दफन कर दिया। घटना की गम्भीरता को लेते हुए मल्लावां, माधौगंज, बिलग्राम, साण्डी, सुरसा, बघौली, कासिमपुर सहित एक प्लाटून पीएसी तैनात कर दी गई ताकि कोई अप्रिय घटना न हो ऐसे में प्रशासन भी मुस्तेद बना रहा। इस सम्बंध में एसडीएम बिलग्राम राहुल विश्वकर्मा ने बताया कि राजेश कुमार गुप्ता ने प्रार्थना पत्र आया था। उसी मामले के नदीम सिद्दीकी व कब्रिस्तान कमेटी व राजेश राजेश गुप्ता के अभिलेख देखे गए और उक्त भूमि का न्यायालय में मुकदमा विचाराधीन होनी बात कही जा रही है। उसकी जांच की जारी है। 15 दिनों तक सभी पक्षकारो से अभिलेख मांगे गए। नगर के संभ्रात नागरिकों के सहयोग से वार्तालाप के बाद शव को शांतिपूर्ण ढंग से दूसरी कब्र खोदकर दफनाया दिया गया है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक