जिला जज के निर्देशानुसार पी एल वी कर रहे लोगो को जागरूक


 सीतापुर।
जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सीतापुर जिला जज ध्अध्यक्ष कुलदीप कुमार के आदेशानुसार जिला सचिव श्रीमती सुदेश कुमारी के कुशल नेतृत्व में पैरा-लीगल वालंटियर जनपद में समय समय जारी   कार्यो  को जिम्मेदारी से निभाते हुए लोगो को जारी योजना के प्रति जागरूक कर समाज मे जागरूकता अभियान चला रहे है जिससे  शासन द्वारा संचालित योजना का लाभ सभी को मिल सके और न्याय सभी को मिल सके लोगो को राहत मिल सके जिला विधिक सेवा प्राधिकरण जिला सचिव श्रीमती सुदेश कुमारी ने विधिक सहायता की  मुख्य कड़ी पैरा लीगल वालंटियर के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण का शुरुआत से ही लक्ष्य रहा है कि न्याय को आपके दरवाजे तक बिना रोक-टोक के पहुँचाया जाये। इसी बात को ध्यान में रखते हुये वर्ष 2009 से प्राधिकरण द्वारा पैरा-लीगल वालंटियर नाम की चयन  योजना शुरू की गयी। जिसके अंतर्गत समाज के विभिन्न क्षेत्रों से आये लोगों का चयन करके उन्हें न्यायिक प्रशिक्षण दिया जाता है। इन्हीं चयनित एवं प्रशिक्षित लोगों को हम आम भाषा में ष्पैरा-लीगल वालंटियरष् बोलते हैं। लम्बे समय से जेलों में सजा काट रहे अच्छे व्यवहार वाले कैदी।,आदि कोई अन्य व्यक्ति जिसे जिला विधिक सेवा प्राधिकरण या तालुक कानूनी सेवा समिति पैरा-लीगल वालंटियर के रूप में सही समझती है।पैरा-लीगल वालंटियर का चयन जिला स्तर एवं तहसील स्तर पर स्थित विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा चयन साधारण रूप से विज्ञापन एवं नोटिस के द्वारा लोगों को सूचित किया जाता है  प्राधिकरण की वेबसाइट के पर भी पूरी जानकारी प्राप्त की जा सकती है  विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा बनायी गयी चयन समिति पैरा-लीगल वालंटियर बनने के योग्य जो भी आवेदक होंगे उनको साक्षात्कार के लिए बुलाया  जाता है । राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के दिशानिर्देषों के अनुसार महिला आवेदक को वरीयता दी जायेगी, पैरा-लीगल वालंटियर  का प्रशिक्षण व चयन  जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष की निगरानी में होता है ।   पैरा-लीगल वालंटियर को  सरकारी कर्मचारियों की तरह वेतन पाने का कोई प्रावधान नहीं है, प्राधिकरण द्वारा मानदेय दिया जायेगा, जिससे कि पैरा-लीगल वालंटियर को  आने-जाने का खर्च इत्यादि जो भी है उसको पूरा किया जा सके  ष्पैरा-लीगल वालंटियरष् का कार्यकाल एक वर्ष का ही होता है सामाजिक न्याय सुनिश्चित करने और लीगल एड उपलब्ध करवाने में महत्वपूर्ण भूमिका मानी गयी है जिला विधिक सहायता समिति का यह भी कर्तव्य है सभी को न्याय मिले  कि वह लीगल में आने वाले   सहयोग उपलब्ध कराये सरकारी कागज बनवाने , किसी सरकारी योजना का लाभ उठाने के लिए जरुरी कार्यवाही करने में मदद करना भी है.जनपद सीतापुर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण में कुल 50 पैरा-लीगल वालंटियर इस वर्ष चयन किये गए थे जिसमें सक्रिय  पैरा-लीगल वालंटियर  जोकि जनपद वासियों को समय समय पर जागरूक कर रहे है  वीरेंद्र मिश्रा , सरिता त्रिपाठी, संध्या त्रिवेदी ,  सोमी शर्मा मो0 शकील  मो0 नोशद मो0 सुहैल  प्रेमनारायण मिश्रा हंसराम पिंकी  प्रीति मिश्रा रेनू यादव अलाउद्दीन हरिशंकर मिश्रा  जितेंद्र शुक्ल मो0अतीक खा  दीपगगन गोंड प्रगति बाजपेई  पवन शुक्ल मिथलेश  मीनू  महेश्वर सिंह संदीप कुमार यादव सविता यादव सीमा अग्नहोत्र आदि लोगों को जागरूकता कार्यक्रम की जिम्मेदारी ली है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक