दहेज रहित विवाह के बंधन में बंध कर दंपत्ति ने कायम की मिसाल

 


लखीमपुर खीरी 

आर्थिक रूप से संपन्न होने के बाद भी दहेज प्रथा को जड़ से खत्म करने के लिए दहेज रहित विवाह करके एक मिसाल कायम करने वाले लखीमपुर खीरी जिला के रहने वाले भारत राज और पोसकी राज ने संत रामपाल की शरण में विवाह कर समाज को दहेज प्रथा को खत्म करने का एक संदेश दिया है। मुनींद्र धर्मार्थ ट्रस्ट के जिला समन्वयक रविदास बताते हैं कि संत रामपाल के आशीर्वाद से बिना दान दहेज, बिना कोई बैंड बाजा, बिना बारात, बिना कोई खर्च के 17 मिनट में गुरु वाणी द्वारा विवाह संपन्न कराया गया और संत रामपाल के दहेज रहित विवाह करने के संदेश को जन - जन तक पहुँचाया जा रहा है। रविदास बताते हैं कि समाज मे दहेज प्रथा जैसी तमाम कुरीतियों मे सबसे जटिल कुरीति है जिसको खत्म करने के लिए ना सिर्फ जिला लखीमपुर खीरी बल्कि संपूर्ण प्रदेश व देश में संत रामपाल द्वारा इसी प्रकार से शरण में आने वाले लोगों को दहेज रहित विवाह करने के लिए साधना चैनल शाम 7.30 से व ईश्वर टीवी रात्रि 8.30 आदि टीवी चैनलों पर सत्संग द्वारा प्रेरित किया जाता है, जिसके परिणाम स्वरूप तमाम दहेज रहित विवाह 17 मिनट में गुरुवाणी द्वारा संपन्न होते हैं । जिसका संपूर्ण खर्च ट्रस्ट के द्वारा उठाया जाता है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक