सीतापुर में चैथे चरण 23 फरवरी कों होगा मतदान- विशाल भारद्वाज


 जिला निर्वाचन अधिकारी ने प्रेसवार्ता कर दी जानकारी

सीतापुर । मुख्य निर्वाचन अधिकारी उ0प्र0 लखनऊ द्वारा विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 के लिये जारी विज्ञप्ति संख्या 51(1)  सी0ई0ओ0-2- दिनांक 08 जनवरी 2022 के अनुसार जनपद सीतापुर के अन्तर्गत पड़ने वाले विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र क्रमशः 145-महोली, 146-सीतापुर, 147-हरगांव (अ0जा0), 148-लहरपुर, 149-बिसवां, 150-सेवता, 151-महमूदाबाद, 152-सिधौली (अ0जा0), 153-मिश्रिख (अ0जा0) के सामान्य निर्वाचन 2022 हेतु कार्यक्रम नियत किया गया है। जनपद में चतुर्थ चरण में मतदान सम्पन्न कराया जायेगा। निर्वाचन की अधिसूचना 27 जनवरी 2022 को जारी की जायेगी। नाम निर्देशन हेतु अन्तिम दिनांक 03 फरवरी 2022 निर्धारित किया गया है। नाम निर्देशनों की जांच 04 फरवरी 2022 को की जायेगी तथा 07 फरवरी तक नाम वापस लिये जा सकेंगे। 23 फरवरी 2022 दिन बुधवार को मतदान कराया जायेगा तथा 10 मार्च 2022 को मतगणना करायी जायेगी। 12 मार्च 2022 वह दिनांक निर्धारित किया गया है जिसके पूर्व निर्वाचन पूर्ण करा लिया जायेगा। उपरोक्त जानकारी जिला निर्वाचन अधिकारीध्जिलाधिकारी विशाल भारद्वाज ने कलेक्ट्रेट सभागार में रविवार को आयोजित प्रेसवार्ता के दौरान दी। उन्होंने बताया कि विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 के सन्दर्भ में आदर्श आचार संहिता के सुसंगत उपबन्ध दिनांक 08 जनवरी 2022 से सम्पूर्ण जनपद में लागू हो गये हैं। जिलाधिकारी ने बताया कि एम0सी0सी0 टीमों द्वारा आदर्श आचार संहिता के अनुपालन में प्रचार सामग्री हटाये जाने की कार्यवाही प्रारम्भ कर दी गयी है। जिला निर्वाचन अधिकारीध्जिलाधिकारी ने बताया कि मा0 निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार कोविड संक्रमण के दृष्टिगत आगामी 15 जनवरी तक कोई भी जनसभा या रैली किया जाना पूर्णतया प्रतिबंधित रहेगा। इसके उपरान्त मा0 आयोग के निर्देशानुसार कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने बताया कि रैली हेतु चिन्हित स्थानों पर निर्धारित क्षमता से 50 प्रतिशत लोग ही प्रतिभाग कर सकेंगे। कोविड प्रोटोकाल का पूर्णतया अनुपालन सभी गतिविधियों में कराया जायेगा। जिला निर्वाचन अधिकारीध्जिलाधिकारी ने बताया कि मतदान में 80 वर्ष से अधिक उम्र के मतदाताओं एवं दिव्यांग मतदाताओं को पोस्टल वैलेट से मतदान का भी विकल्प प्राप्त होगा। जिसके लिये आयोग से प्राप्त निर्देशानुसार कार्यवाही की जायेगी। इसके साथ ही पोलिंग बूथों को दिव्यांगजनों एवं वृद्ध वोटरों के लिये अनुकूल बनाये जाने के लिये भी समुचित प्रबंध किये जा रहे हैं।जिला निर्वाचन अधिकारीध्जिलाधिकारी ने कहा कि शांतिपूर्ण एवं निष्पक्ष निर्वाचन सम्पन्न कराने हेतु पुलिस प्रशासन द्वारा ऐसे व्यक्तियों को चिन्हित कर निरोधात्मक कार्यवाही की जा रही हैं जो मतदान को प्रभावित कर सकते हैं। शस्त्रों को जमा करने की कार्यवाही भी नियमानुसार करायी जा रही है। क्रिटिकल बूथ का चयन किये जाने की कार्यवाही संबंधित सेक्टर अधिकारियों एवं पुलिस अधिकारियों द्वारा की जा रही है। जिलाधिकारी ने बताया कि नामांकन हेतु आनलाइन नामांकन की सुविधा भी वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में उपलब्ध रहेगी। जिलाधिकारी ने प्रशासन द्वारा किये गये अन्य प्रबंधों के विषय में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मा0 निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार निर्वाचन से संबंधित कार्यों को सम्पन्न कराया जायेगा।प्रेसवार्ता के दौरान पुलिस अधीक्षक आर0पी0 सिंह ने पुलिस के प्रबंध के विषय में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आदर्श आचार संहिता का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जायेगा तथा उल्लंघन करने वालों के विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही की जायेगी। प्रेसवार्ता के दौरान अपर जिलाधिकारीध्उप निर्वाचन अधिकारी राम भरत तिवारी ने निर्वाचन संबंधी महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर जानकारी देते हुये बताया कि जनपद में मतदाता सूची का अन्तिम प्रकाशन दिनांक 05 जनवरी 2022 को किया जा चुका हैं जिसके अनुसार जनपद में कुल 3870 पोलिंग बूथ तथा 2403 पोलिंग स्टेशन हैं। जनपद में कुल 3870 बी0एल0ओ0 तथा 375 सुपरवाईजर तैनात हैं। कुल मतदाताओं की संख्या 3125937 हैं जिसमें 1669251 पुरूष मतदाता तथा 1456512 महिला मतदाता तथा 174 अन्य मतदाता शामिल हैं। निर्वाचन प्रक्रिया को सकुशल सम्पन्न कराने के लिये 325 सेक्टर मजिस्ट्रेट तथा 32 जोनल मजिस्ट्रेट तैनात किये गये हैं।प्रेसवार्ता के दौरान अपर पुलिस अधीक्षक उत्तरी डा0 राजीव दीक्षित, अपर पुलिस अधीक्षक दक्षिणी एन0पी0 सिंह, नगर मजिस्ट्रेट पूजा मिश्रा, उपजिलाधिकारी सदर अनिल कुमार सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक