शिनाख्त के 21 घंटे बाद परिजनो के सुपुर्द किया गया शव

 


बूढ़े बाप से चैथ वसूलने के बाद ही सुपुर्द किया गया शव

हरदोई। आखिरकार कब तक इंसानियत यूं ही शर्मसार होती रहेंगी ? पांच दिन पहले एक युवक सड़क हादसे का शिकार हो गया था। पुलिस ने उसका शव लावारिस हालत में अपने कब्ज़े में ले लिया था। गुरुवार को 72 घंटे बाद शव की शिनाख्त तो गई थी। लेकिन पोस्टमार्टम के दौरान वसूली जाने वाली चैथ के पैसे देने के बाद ही 21 घंटे बाद शव का पोस्टमार्टम कर शव उसके घरवालों के सुपुर्द किया गया। बताते चलें कि 3 जनवरी की शाम बिलग्राम कोतवाली के पसनेर चैराहा के पास एक 22 वर्षीय युवक की कार से टक्कर होने से मौत हो गई थी। शव की शिनाख्त नहीं हो सकी थी। पुलिस ने लावारिस हालत में शव कब्ज़े में ले लिया था। गुरुवार को 72 घंटे बाद बिलग्राम कोतवाली के परचल रसूलपुर निवासी बुज़ुर्ग शौकत अली यहां पोस्टमार्टम हाउस पहुंचा। जहां उसने शव की शिनाख्त अपने पुत्र इरफान के रूप में की। शौकत के मुताबिक इरफान बहन की ससुराल तकिया गांव जाने की बात कह कर घर से निकला था। इरफान हैदराबाद में काम करता था। शौकत ने बताया कि पोस्टमार्टम हाउस पर उससे पैसे मांगे गए। लेकिन उस वक्त पैसे नहीं थे। वह वापस घर लौट गया। शुक्रवार को वह उधार-कर्ज़ ले कर दोबारा पोस्टमार्टम हाउस पहुंचा। जहां पैसे देने के बाद ही उसके बेटे के शव का पोस्टमार्टम हो सका। इससे पहले भी पोस्टमार्टम हाउस में चैथ वसूलने की शिकायतें आ चुकी है। लेकिन ज़िम्मेदारों के कान पर जूं तक नहीं रेंगी।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक