सीबीआई की पूछताछ के बाद से गैरहाजिर चल रहा मास्टरमाइंड


 गोविन्द के लापता होने से उठने लगे हैं तमाम सवाल

हरदोई। नौकरी के नाम पर बेरोजगारों से ठगी के मामले में मास्टरमाइंड समझा जाने वाला गोविन्द अचानक डृयूटी से कहां गायब हो गया ? सीबीआई से हुई पूछताछ के बाद से उसका इस तरह से गायब हो जाना, अपने आप में अनसुलझा सवाल है। इसे ले कर सीएमओ दफ्तर के अंदर खलबली मची हुई है। कुछ लोगों का मानना है कि वह बचने के लिए कोई रास्ता तलाशने गया है। फिलहाल उसका इस तरह से गायब हो जाना तमाम तरह के सवाल खड़े कर रहा है। बताते चलें कि 14 दिसंबर को सीबीआई की टीम ने सीएमओ दफ्तर पहुंच कर वहां तैनात आउट सोर्सिंग कर्मी गोविन्द से बंद कमरे में घंटों पूछताछ की थी। मामला नौकरी के नाम पर बेरोज़गारों को ठगे जाने का था। लखनऊ की अवनि परिधि कम्पनी से जुड़े लोग नौकरी दिलाने के नाम पर बेरोज़गारों से ठगी करते थे। इस बात का खुलासा तब हुआ जब लखनऊ में कम्पनी का एक बंदा रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया था। यहां सीएमओ दफ्तर में तैनात गोविन्द भी उन्ही लोगों में शामिल था। इसका राज़ लखनऊ के राजा गुप्ता से हुई पूछताछ के बाद फाश हुआ। नेशनल थर्मल पावर लिमिटेड रायबरेली में नौकरी दिलाने में की गई ठगी ने मामले को और तूल दे दिया। अंदरखाने से पता चला है कि 14 दिसंबर की शाम को सीबीआई के जाते ही गोविन्द इधर-उधर भाग-दौड़ लगाने लगा था। अगले ही दिन से वह गायब हो गया। 15 और 16 दिसंबर को उसकी रजिस्टर पर हाज़िरी तो लगी मिली, लेकिन वह अभी तक कहीं नज़र नहीं आया। 17 दिसंबर यानी शुक्रवार को लोगों मे बहस छिड़ने की बात प्रशासनिक अधिकारी श्रवण कुमार के कानों तक पहुंच गई। उन्होंने तुरंत हाज़िरी रजिस्टर तलब किया। जिसमें गोविन्द की 15 और 16 दिसंबर की हाज़िरी लगी हुई थी। इस पर प्रशासनिक अधिकारी ने छानबीन कराई तो गोविन्द के कमरें में ताला लटकता हुआ पाया गया। कुछ लोगों का यहां तक कहना है कि गोविन्द 14 दिसंबर को हाज़िरी लगाने के बाद से ही गायब हो गया था। लेकिन सवाल यह है कि फिर 15 और 16 दिसंबर को उसकी किसने हाज़िरी लगाई ? चालाकी को भांप चुके प्रशासनिक अधिकारी श्रवण कुमार ने हाज़िरी रजिस्टर में गोविन्द को 15, 16 और 17 दिसंबर को गैर हाज़िर करते हुए अवनि परिधि कम्पनी को चिट्ठी लिखने की बात कही है। फिलहाल गोविन्द का इस तरह से गायब हो जाना अपने आप में तमाम तरह के सवालों को खड़ा कर रहा है।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक