बाघ ने अटरिया में फैलाई दहशत, काबिंग कर रही वन विभाग की टीम

 


सीतापुर ।
कई इलाको में दहशत फैलाने के बाद अब बाघ ने अटरिया इलाके की ओर रूख लिया है और वहां एक बछड़े को अपना निवाला बना डाला। गौरतलब हो कि  पहले मिश्रिख, गोंदलामऊ और अब अटरिया इलाके में जंगली हिसक जीव ने दस्तक दी है।बीती रात हिसक जीव ने अटरिया के रैतला गांव के पशुपालक विनोद के बछड़े को अपना निवाला बनाया। वन विभाग की टीम कांबिंग में जुटी है। ग्रामीण क्षेत्र में तेंदुआ होने की बात कह रहे हैं। वहीं, वन विभाग किसी अन्य जानवर होने की बात कह रहा है। बहरहाल, आसपास के गांवों में दहशत है। सिधौली रेंजर एमपी सिंह ने बताया कि पहाड़ापुर के रैतला गांव के ग्रामीणों ने क्षेत्र में हिसक जानवर की मौजूदगी की सूचना दी। बताया गया कि हिसक जीव ने पशुपालक की गाय के बछड़े का शिकार किया है। विभाग की टीम को घटनास्थल पर भेजा गया है। पगचिह्नों की पड़ताल कराई जा रही है। फिलहाल, किसी भी हिसक जीव के पगचिह्न नहीं मिले हैं। संभव है कि भेड़िया या लकड़बग्घा हो। रेंजर एमपी सिंह ने बताया कि हिसक जीव की मौजूदगी की सूचना के बाद कांबिंग के लिए तीन टीमों का गठन किया गया है। प्रत्येक टीम में दो-दो वन कर्मियों को तैनात किया गया है। टीम को दिनवार गांवों में कांबिग की जिम्मेदारी दी गई है।हिसक जीव से बचाव को लेकर वन विभाग की टीम ने ग्रामीणों को जागरूक भी किया। बच्चों को अकेले बाहर न जाने देने की नसीहत दी गई। खेतों में अकेले न जाने, आवाज करते चलने की सीख भी दी। रैतला गांव में बछड़े का शिकार करने से चैनपुर, भगवतीपुर, गुलालपुर, महमूदपुर, शिवपुरी आदि गांवों में दहशत का माहौल है।कुछ दिन पहले मिश्रिख के डिगरपुर, जलालपुर व गोंदलामऊ के करुवामऊ, खेवटा, रामशाला आदि गांवों के बाहर खेतों में बाघ के पगचिह्न मिले थे। वन विभाग ने बाघ के नदी पार कर हरदोई जिले की सीमा में प्रवेश करने की बात कही थी। उधर, खेवटा गांव के जंगल में तेंदुए के पगचिह्न भी पाए गए थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक