प्रेमिका के सामने मौत को गले लगाने वाले प्रेमी की जांच करने में जुटी पुलिस

 


इस्लामुद्दीन की मौत पर उठ रहे सवाल 

हरदोई। प्रेमिका के सामने मौत को लगाने वाले प्रेमी की जांच करने में जुटी पुलिस भले ही अभी किसी नतीजे पर न पहुंची हो, लेकिन लोगों के बीच इसी सवाल को लेकर बहस छिड़ी हुई है कि अकेले प्रेमी पर ही पुलिसिया प्रेम क्यों बरसा ? क्या प्रेमिका का कोई कुसूर नहीं ? लोगों का यह भी कहना है कि मुकदमा दर्ज कराने के पीछे कहीं मुआवज़े का खेल तो नहीं ? बताते चलें कि बघौली थाने के गदनपुर निवासी शरफुद्दीन के पुत्र इस्लामुद्दीन और गांव के रामकुमार की पुत्री के बीच प्रेम-प्रसंग चल रहा था। शनिवार की रात दोनों प्रेमी-प्रेमिका घर से बाहर निकल गए। इसके बाद रविवार की पौ फटते ही गदनपुर से कुछ दूर चुरईपुरवा में पुल के पास रेलवे ट्रैक पर इस्लामुद्दीन का कटा हुआ शव पड़ा देखा गया।वही पास की झाड़ियों में उसकी प्रेमिका डरी-सहमी हुई देखी गई। वैसे इन दोनों के बारे में हर कोई बातें करता घूम रहा है। यह भी कहा जा रहा है कि प्रेमिका के घर वालों को सब-कुछ पता था, लेकिन कुछ वजह से उन्होंने अपने होंठ सी रखें थे। चुरईपुरवा से सच्चाई चोरी की गई। हर कोई यही कह रहा है। पुलिस ने प्रेमिका की तहरीर पर प्रेमी के खिलाफ बहला-फुसला कर भगा ले जाने की रिपोर्ट दर्ज कर जांच भले ही शुरू कर दी हो। लेकिन लोगों का यही कहना है कि प्रेमिका के सामने प्रेमी का जान गंवा देना क्या यह साबित करता है कि प्रेमिका ने अपने प्रेमी को जान देने के लिए उकसाया हो ? वहीं कुछ जानकार लोगों की बातों पर यकीन किया जाए तो यह साबित होता है कि मुआवज़ा हासिल करने के लिए दलित एक्ट के तहत मामला दर्ज कराया गया। फिलहाल पुलिस की जांच आगे कैसी रिपोर्ट देगी ? इसका पता आगे चलेगा, लेकिन इस्लामुद्दीन की मौत तमाम तरह के अनसुलझे सवालों में फिलहाल उलझी हुई है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक