मिश्रिख प्रशासन नही कर रहा दबंगो पर कार्यवाही


 
मिश्रित सीतापुर / बीत गई समयावधि नहीं हुआ पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर कोई भी अमल यह सनसनीखेज मामला है मिश्रित कोतवाली क्षेत्र के ग्राम किशनपुर का जहां दूसरे की जमीन पर दूसरे लोग कर रहे हैं अवैध रूप से कब्जा कर लेने का प्रयास पीड़ित फरियादी अधिकारियों को प्रार्थना पत्र देकर निरंतर लगा रहा है न्याय की गुहार लेकिन संबंधित प्रशासन के कानों पर नहीं रेंग रही है जूं, वाह रे मिश्रित क्षेत्र का प्रशासन फरियादी आखिर न्याय मांगे तो किससे सूबे के मुखिया क्या देंगे इस ओर कोई ध्यान। बताते चलें की मिश्रित तहसील एवं विकास क्षेत्र अंतर्गत स्थित ग्राम किशनपुर निवासी आलोक शुक्ला पुत्र स्वर्गीय लालजी प्रसाद शुक्ला द्वारा विद्यालय के नाम पर क्रय की गई जमीन गाटा संख्या 1374 मि० रकबा 0. 162 हेक्टेयर पर गांव के ही दबंग एवं संख्या बल में अधिक दलित राजाराम, दीना शंभू, कन्हैयालाल आदि श्री शुक्ला की जमीन पर निरंतर अवैध रूप से कब्जा कर लेने का प्रयास करते चले आ रहे हैं जिसके विरोध न्याय की फरियाद करते हुए तहसील, प्रशासन जिला, प्रशासन संपूर्ण समाधान दिवस सहित थाना समाधान दिवस में 1 दर्जन से अधिक प्रार्थना पत्र देकर आलोक शुक्ला निरंतर न्याय की गुहार लगाता चला आ रहा है लेकिन विडंबनाओं के चलते मिश्रित प्रशासन के कानों पर नहीं रेंग रही है कोई जूं, ज्ञातव्य हो कि पीड़ित आलोक शुक्ला द्वारा दिए गए प्रार्थना पत्र को गंभीरता से लेते हुए जनपद के पुलिस अधीक्षक ने बीते 18 दिसंबर को क्षेत्राधिकारी मिश्रित को निर्देशित किया कि पुलिस एवं राजस्व की संयुक्त टीम का गठन व तहसील के एसडीएम से वार्ता करके प्रकरण में समुचित निस्तारण आख्या 24 दिसंबर तक प्रस्तुत करें मामले में विडंबना है कि पुलिस अधीक्षक द्वारा दी गई समयावधि गुजर गई दूसरे दिन 25 दिसंबर को इस समाचार के लिखने तक मामले का निस्तारण तो दूर की बात थाने का  चौकीदार तक गांव में जांच करने के लिए नहीं गया था पीड़ित फरियादी न्याय की मांग करता हुआ दर-दर भटकने पर मजबूर हो रहा है आखिरकार उसको कैसे मिलेगा न्याय, समूचे प्रशासन के सामने यक्ष प्रश्न बना हुआ है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक