मौसम ने ली करवट ,गिरापारा


 सीतापुर।
बुधवार को सुबह से ही मौसम में गिरावट दर्ज की गई धुंध व कोहरे के साथ साथ आसमान में काले घने बादल छाए रहे ।अधिकतम तापमान 10℃ तथा न्यूनतम तापमान 7℃ तक दर्ज किया गया । तापमान में भारी गिरावट के कारण बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा। लोग घरों से बाहर निकलने में कतरा रहे थे। मौसम में गिरावट के साथ साथ बारिश और सर्द हवाओं ने ठिठुरन व गलन बढा दी। ठंड से बचाव के लिए लोग ऊनी वस्त्र पहने देखे गए। आसमान में घने बादल व कोहरा छाए रहे जिसके कारण लोगों को यात्रा करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। लोग अपने वाहनों की लाइट जला कर वाहन चलाने पर मजबूर थे वहीं कोहरे ने वाहनों की रफ्तार धीमी कर दी। दिल व सांस के मरीजों के लिए बढ़ती ठंड मुसीबत का सबब बन रही है। दिल व  सांस के मरीजों के लिए डॉक्टर लगातार ठंड से बचाव के लिए सलाह दे रहे हैं । शहर में ठंड को लेकर प्रशासन की तैयारियां जमींदोज नजर आई। सार्वजनिक स्थलों पर जनता को ठंड से निजात दिलाने के लिए कोई भी पुख्ता इंतजाम नजर नहीं आ रहे थे। जहाँ डॉक्टर दिल व सांस के मरीजों को ठंड से बचाव के लिए सलाह दे रहे हैं वहीं दूसरी तरफ जिला अस्पताल में ठंड से बचाव के लिए कोई पुख्ता इंतजाम नहीं नजर आ रहे हैं। अस्पताल में अलाव जैसा कोई भी उचित प्रबंध नहीं दिखाई दे रहा है। मरीजों के साथ आए तीमारदार ठंड के कहर को झेलने पर मजबूर हैं। जिम्मेदार अधिकारियों का गैर जिम्मेदाराना रवैया कहां तक उचित है? डीएम विशाल भारद्वाज के बेहतर प्रयासों से जिले की प्रत्येक तहसील को ठंड से निजात व कंबल वितरण के लिए लाखों रुपए प्रशासन की ओर से मुहैया करवाए गए हैं इसके बावजूद भी कुछ तहसील प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारी मौन क्यों बैठे हैं? कंबल के वितरण में देरी क्यों की जा रही है?


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक