आरएमपी इण्टर कालेज में सम्पन्न हुआ युवा संसद का आयोजन


 सीतापुर।
नेहरू युवा केन्द्र सीतापुर, युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जिला स्तरीय पडोस युवा संसद कार्यक्रम का आयोजन आरएमपी इण्टर काॅलेज सीतापुर में जिला युवा अधिकारी रोशनी पटवा जी और लेखा एवं कार्यक्रम सहायक महोदया सुश्री पारुल जी के निर्देशन में किया गया जिसमें मुख्य अतिथि माननीय विधायक शशांक त्रिवेदी विधानसभा महोली, विशिष्ट अतिथि आर0एम0पी0 इण्टर काॅलेज सीतापुर के प्रधानाचार्य गोविंद भारती आशीष उपायुक्त उद्योग केन्द्र सीतापुर, श्री राज शर्मा, जिला व्यायाम शिक्षक राज शर्मा, एन0एस0 कोर्डिनेटर एंव सोमी शर्मा उपस्थित रहे । इस कार्यक्रम में सीतापुर से 19 ब्लाकों से तकरीबन 40 राष्ट्रीय युवा स्ंवयसेवक एवं प्रत्येक ब्लाॅक से 20 अन्य प्रतिभागी भी उपस्थित रहे इसके अतिरिक्त तकरीबन 600 से अधिक प्रतिभागियों द्वारा प्रतिभाग किया गया। जिसमें अलग-अलग विकासखण्डों से आए हुए विभिन्न प्रतिभागियों ने विभिन्न विषयों पर वाद-विवाद प्रतियोगिता कराई जैसे- बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान, आत्मनिर्भर भारत अभियान, और उज्जवला योजना। प्रतिभागियों ने अपनी अनोखी प्रतिभा का प्रदर्शन कर लोगों का मन मोह लिया इससे लोगों ने उनका करतलवनि से स्वागत कर उनका हौसला अफजाई किया। मुख्य अतिथि विधायक महोली श्री शशांक त्रिवेदी, द्वारा अपने संबोधन में कहा कि युवाओं का आज के दौर में सबसे अहम योगदान है। इसके साथ ही बालिकाओं को आत्मनिर्भर बनने पर प्रेरित भी किया। नेहरू युवा केन्द्र सीतापुर सीमित संसाधनों के साथ समाज के हित में अपनी महति भूमिका निभा रहा है। इस कार्यक्रम में प्रतिभाग करने वाले सभी प्रतिभागियों को नेहरू युवा केन्द्र द्वारा पुरस्कार प्रदान किया गया जिससे उनके चेहरे खिल उठे। कार्यक्रम के समापन में कार्यक्रम में उपस्थित समस्त अतिथिगण एवं प्रतिभागियों का धन्यवाद ज्ञापन जिला युवा अधिकारी रोशनी पटवा द्वारा किया गया। कार्यक्रम का सफल संचालन राष्ट्रीय युवा स्वंयसेवक प्रगति बाजपेई, राजन बाजपेई, हर्षित मिश्रा एवं शीतल गुप्ता, योगेश कुमार, गोमती, नूरआलम अंसारी आदि का सहयोग सराहनीय रहा।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक