मोटे कमीशन के चलते लैब टेक्नीशियन प्राइवेट पैथालॉजी से करवा रहे मरीजो की जांच

 

demo pic

कस्बे में डेंगू के कहर से सैकड़ो बीमार, जिम्मेदार सबकुछ जानकर भी बने अंजान 

शाहाबाद। मौसमी बीमारियों के साथ साथ नगर में डेंगू का बुखार विकराल रूप लेता जा रहा है। नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में डेंगू बुखार से सैकड़ों लोग पीड़ित हैं। सैयदवाड़ा, दिलेरगंज, पक्का बाग, पठकाना, भुडिया, कटरा, सुलेमानी सहित कई ऐसे मोहल्ले हैं जिन में डेंगू के मरीजों की संख्या सैकड़ों में है। यदि गहन समीक्षा की जाए तो नगर की दर्जनों सड़कें अभी भी पानी से लबालब भरी मिलेंगी। डेंगू की दस्तक के बाद संवाददाता द्वारा कई मुहल्लों का निरीक्षण किया गया तो डेंगू जैसी बीमारी महामारी विकराल रूप ले चुकी है। पालिका प्रशासन की ओर से साफ सफाई के तमाम दावे किये जाते हैं कि नगर में दवाओं का छिड़काव व मच्छर रोधी यंत्र द्वारा दवाओं का छिड़काव भी किया जाता है। तथा साफ सफाई के लिहाज से कूड़ेदान आदि तमाम व्यवस्थाएं की जाती है लेकिन पालिका के सारे दावे झूठे सिद्ध हो रहे हैं। सीएचसी में स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर प्रशासन के सारे दावे खोखले साबित हो रहे हैं। सीएचसी अधीक्षक द्वारा डेंगू बुखार मलेरिया टाइफाइड डेंगू की जांच के तमाम दावे किए जाते हैं लेकिन जांच सिर्फ और सिर्फ मलेरिया तक ही सीमित है बताया जा रहा है कि शुक्रवार को ऐसा ही नजारा देखने को मिला जब दर्जनों लोग डेंगू बुखार और मियादी बुखार की जांच कराने आए थे लेकिन लैब में बैठे कुलदीप नामक व्यक्ति ने सिर्फ मलेरिया की जांच कहकर लोगों को प्राइवेट लैब में जांच के लिए भेज दिया लोगों का कहना है कि प्राइवेट जांच में लैब टेक्नीशियन का कमीशन बंधा हुआ है। जिसके चलते तमाम लोग डेंगू से अपनी जवान गँवा बैठे हैं। उसके बावजूद सीएचसी में कोई विशेष इंतजाम नहीं है। देखा जा रहा है कि सैकड़ों मरीजों को दवाई के नाम पर सामान्य दवाई दी जाती है और उन्हें मेडिकल स्टोरों से मंहगी दवाएं लिखकर रामभरोसे छोड़ दिया जाता है। ऐसा भी कहा गया है कि प्राइवेट तौर पर डॉक्टरों द्वारा मरीज फीस लेकर देखे जाते हैं। सोमवार को सीएचसी पर देखा गया कि कोई भी जिम्मेदार डॉक्टर सीट पर बैठा नहीं था। सीएचसी प्रभारी आवास पर तो अन्य डॉक्टर अपनी-अपनी सीटों पर नदारद दिखे। महज फार्मासिस्ट या अन्य आयुष डॉक्टरों के माध्यम से मरीजों को पर्चा पर दवाइयां लिखी गई।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव