सांसद ने आवास लाभार्थियों को दी उनके आवास की चाभी व प्रमाण पत्र

 


हरदोई।
विकास भवन के स्वर्ण जयन्ती सभागार में सांसद जय प्रकाश की अध्यक्षता में प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत आवास विहीन गरीबों को छत मुहैया कराने के उद्देश्य से जिले के विकास खण्डों के लाभार्थियों को उनके आवास की प्रतीकात्मक रूप से चाॅभी एवं प्रमाण पत्र प्रदान किये गये। उन्होने विस्तार से शासन द्वारा संचालित विभिन्न जन कल्याणकारी योजनाओं के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होने बताया है कि भारत सरकार द्वारा सामाजिक आर्थिक और जातिगत जनगणना (एसईसीसी) 2011 में कराये गये सर्वेक्षण के आधार पर प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के अन्तर्गत पात्र परिवारों की तैयार की गयी श्रेणीवार स्थायी पात्रता सूची में से वरीयता के अनुसार पात्र परिवारों को आवास आवंटित किया गया है। सामाजिक आर्थिक और जातिगत जनगणना (एसईसीसी) 2011 की सूची संतृप्त होने के उपरान्त वर्तमान में आवास प्लस पर जोडे़ गये परिवारों में से पात्र परिवारों की तैयार की गयी श्रेणीवार स्थायी पात्रता सूची से वरीयता के अनुसार पात्र परिवारों को आवास आवंटित किया जा रहा है। उन्होने बताया है कि प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के अन्तर्गत 25 वर्गमीटर में आवास निर्माण कराये जाने का प्राविधान है। आवास निर्माण हेतु लाभार्थी को प्रथम किस्त के रूप में रू0 40000.00, द्वितीय किस्त में रू0 70000.00 एवं तृतीय किस्त में रू0 10000.00 कुल 120000.00 रूपये की धनराशि उपलब्ध करायी जाती है। लाभार्थी को मनरेगा से 90 दिवसों का रोजगार दिये जाने एवं किसी भी योजना से शौचालय का निर्माण कराये जाने का भी प्राविधान है। प्रधानमंत्री  आवास योजना (ग्रामीण) के अन्तर्गत वर्ष 2016-17 से वर्ष 2021-22 तक निर्धारित लक्ष्य 60185 के सापेक्ष 59968 स्वीकृत कराते हुए 54959 आवास पूर्ण कराये गये है। इस अवसर पर पीडी डीआरडीए गजेन्द्र कुमार तिवारी, डीडीओ अजय प्रताप सिंह, जिला पंचायतराज अधिकारी गिरीश चन्द्र, अर्थ एवं संख्या अधिकारी राम प्रकाश, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी वीरेन्द्र प्रताप सिंह, डीसी मनरेगा प्रमोद कुमार चन्द्रौल, अपर जिला सूचना अधिकारी दिव्या निगम सहित समस्त खण्ड विकास अधिकारी व लाभार्थी आदि उपस्थित रहे। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव