अलग-अलग घटनाओं में चार लोगो ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

 


हरदोई।
जिले में अलग-अलग थाना क्षेत्रो में चार लोगो ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। घटना की सूचना पहुंची पुलिस ने शवो को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। पहली घटना बिलग्राम कोतवाली के बेहटा बुज़ुर्ग निवासी 52 वर्षीय नेत्रपाल का शव शनिवार की रात गांव के बाहर पेड़ से लटका हुआ पाया गया। बताया गया है कि नेत्रपाल ने खुदकुशी की। इसके पीछे बताया गया है कि उसने किसी तरह जोड़-बटोर कर दो बेटियों की शादी की थी। तीसरी बेटी राधिका की शादी में उसने कर्ज़ लिया था। इसके अलावा उस पर बैंक का भी कर्ज़ था। एक बीघा खेत से गुज़र-बसर नहीं हो पा रहा था। इसी से तंग आकर उसने फांसी लगा कर जान ही दे दी। दूसरा मामला कोतवाली शहर के झबरापुरवा निवासी 32 वर्षीय शानू वर्मा पुत्र राजेश वर्मा टड़ियावां ब्लाक के परसनी गांव में सफाई कर्मी के पद पर तैनात था। तीन साल पहले उसकी शादी कोतवाली शहर के ही शंकरबक्श पुरवा निवासी परमेश्वर की पुत्री पूनम के साथ हुई थी। करीब दो साल से पूनम पति से झगड़ कर अपने मायके में रह रही हैं। शनिवार की शाम शानू ने घर के अंदर फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। इसका पता होते ही इलाके में अफरातफरी मच गई। वही तीसर मामले में लोनार थाने के दुबघटिया निवासी राजेश का 19 वर्षीय पुत्र अभिजीत का शव शनिवार की देर शाम गांव के बाहर नलकूप के पास फांसी पर लटकता हुआ पाया गया। फिलहाल उसके घर वाले कुछ भी बोलने से साफ इंकार कर रहे हैं, लेकिन फिर भी लोगों के बीच तरह-तरह की बातें हो रही है। कुछ का कहना है कि अभिजीत अपने घर वालों से खफा-खफा रहता था। किसी का कहना है कि वह अपनी पसंद की शादी करना चाहता था लेकिन घरवाले उसकी ज़िद मानने को तैयार नहीं थे।इसी के चलते उसने जान दे दी। वही टड़ियावां थाने के सोहासा गांव निवासी नन्हे सिंह की 19 वर्षीय पुत्री साधना सिंह ने शनिवार की दोपहर उस वक्त घर के अंदर फांसी लगा ली जब घरवाले अपने-अपने काम में लगे थे। नन्हे सिंह ने बताया है कि उसकी पत्नी आशा सिंह काफी बीमार है। साधना उसकी तीमारदारी में लगी रहती थी। साधना ने आखिर किस वजह से इस तरह का कदम उठाया इसके बारे में परिजन चुप्पी साधे रहे। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक