एक दशक से डटे कर्मचारी और डॉक्टरों पर शासन मेहरबान


 शाहाबाद हरदोई ।
सीएचसी की स्वास्थ्य व्यवस्था को चैपट करने में यहां के विभागीय कर्मचारी और अधिकारी लगे हुए हैं जबकि इस समय मौसमी बीमारियों से लेकर डेंगू मलेरिया टायफायड आदि तमाम बीमारियां अपना पैर पसार रही है उसके बावजूद सीएचसी के जिम्मेदारों द्वारा कोई ठोस कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिसके चलते निजी पैथोलॉजी सेंटर पर जांच के नाम पर भारी धनउगाही की चर्चाएं आम हो रही हैं। खास बात यह है कि स्वास्थ्य विभाग की व्यवस्थाओं पर सत्ता पक्ष के लोग भी सवाल उठाने लगे हैं। नामित सभासदों सहित कई भाजपा के पदाधिकारियों ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग का राजनीतिकरण हो गया है वह स्थानीय नेताओं के दबाव में कार्य कर रहा है इसका एक कारण यह भी बताया गया कि यहां पर पिछले एक दशक से अधिक समय से डॉक्टर फार्मासिस्ट वार्ड बॉय और नर्सेज आदि कार्यरत हैं जो किसी न किसी राजनीतिक दल के नेता से जुड़ाव रखते हैं। चूंकि अब चुनाव नजदीक है इसलिए उन तमाम नेताओं और अधिकारियों ने मन में ठाना है कि सरकार की छवि को धूमिल किया जाए। स्वास्थ्य सेवा ही एक ऐसी सेवा है जो ठीक से नहीं होने के चलते आदमी नाराज होगा और फिर भाजपा को वोट नहीं करेगा इसी तरह थाना ब्लाक तहसील में भी स्थानीय नेता हावी हैं या उनके गुर्गे अधिकारियों से मिलकर नैतिक अनैतिक कार्यों को अंजाम देने से पीछे नहीं हट रहे हैं। नामित सभासद मिश्रा का कहना है कि अधिकारी दाम पर विश्वास करते हैं कहीं भी किसी भी क्षेत्र में बिना दाम के लिए कोई भी कार्य नहीं किया जाता है जनता के लिए वह दौड़ते भागते रहते हैं फिर भी जनता का कोई कार्य बिना रिश्वत नही होता है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक