क्षेत्रीय समितियों पर खाद उपलब्ध न होने से किसान परेशान

 


खाद के लिए त्राहि त्राहि करता अन्नदाता

हरपालपुर। भले ही सरकार, उनके मंत्री और कृषि विभाग के अफसर दावा करें कि किसानों के लिए खाद पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है, मगर हकीकत यही है कि क्षेत्र की अधिकांश समितियों पर खाद उपलब्ध न होने से किसान परेशान हैं। कई समितियों पर तो ताले लटके हुए हैं और कहीं कहीं तो किसानों की लम्बी लाईन में खड़े होने के बाद भी खाद नहीं मिल पा रही है। ऐसे में किसानों को बाजार में ऊंचे दाम पर खाद खरीदने को मजबूर होना पड़ रहा है।वहीं खाद दुकान पर किसान सुबह से रात तक खाद के लिए लाइन में खडे़ देखे जाते हैं। दुकानदार के कहने पर आधार कार्ड के साथ लंबी लाइन में किसान लग जाते हैं। जब खाद बंटना चालू होती है तो कुछ घंटों के बाद किसानों को कह दिया जाता है कि खाद खत्म हो गई है। जब दुकान से भीड़ चली जाती है। किसानों को सही ढंग से खाद उपलब्ध कराने में प्रशासन भी दिलचस्पी नहीं ले रहा, जिससे किसानों में कृषि विभाग के अधिकारियों के प्रति रोष व्याप्त है। विकास खंड हरपालपुर क्षेत्र के  हरपालपुर कस्बे समेत ग्रामीण क्षेत्र में स्थित खाद की दुकान के सामने लाईन में खड़े किसानों ने बताया कि उनकी फसल खेत में खड़ी हैं और खाद के लिए हम किसान लोग भटक रहे हैं, लेकिन इस ओर न तो प्रशासन और ना ही जनप्रतिनिधि का ध्यान है। कहने को किसान केवल अन्नदाता रह गए हैं। किसानों को अगर कहीं से खाद मिल गई तो उसे जंग को जीतने के बराबर समझते हैं। आज तक खाद की ऐसी किल्लत का सामना किसानों को नहीं हुआ था। लाइसेंसी दुकानदारों को भी भरपूर मात्रा में खाद की आपूर्ति नहीं किया जा रहा है, जिसके कारण किसान सुबह से लेकर रात तक खाद की खोज में भटकते रहते हैं। फिर भी खाद नही मिल पा रही है। मजबूर किसान करे तो क्या करें वह बाजारों से ऊंची कीमतों में खाद खरीदने को विवश हैं। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव