मांगो को लेकर अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल ने कलेक्ट्रेट में किया प्रदर्शन, सौपा ज्ञापन


 हरदोई।
अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल द्वारा जिला प्रभारी अब्बाद हुसैन के नेतृत्व में कई व्यापारियों ने कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन करते हुये प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री को संबोधित 6 सूत्रीय ज्ञापन नगर मजिस्ट्रेट को सौंपा गया। दिये गये ज्ञापन में जिला प्रभारी द्वारा मांग की गयी कि कानपुर के मृत व्यापारी मनीष गुप्ता की हत्या कांड में शामिल दोषी पुलिसकर्मियों पर हत्या का मुकदमा चलाकर बर्खास्त किया जाये और निष्पक्ष जांच के लिये इस हत्याकांड की जांच सीबीआई को सौंपी जाये। देश के परंपरागत खुदरा व्यापार को बचाने के लिए बहुराष्ट्रीय कंपनियों अमेजॉन, फ्लिपकार्ट और स्नैपडील पर नकेल कस कर ऑनलाइन ट्रेडिंग पर अंकुश लगाया जाये। लखनऊ में आयोजित जीएसटी परिषद की बैठक में फुटवियर, गारमेंट्स एवं ईंट भट्टों पर बढ़ाई गई जीएसटी की दर वापस ली जाए। उन्होने कहा कि बांट माप, सेंपलिंग सर्वे छापे के नाम पर हो रहे व्यापारियों के शोषण को रोकने के लिए इंस्पेक्टर राज पर अंकुश लगाया जाए। वरिष्ठ व्यापारी पेंशन योजना लागू की जाए। डीजल पेट्रोल और रसोई गैस को जीएसटी के दायरे में लाया जाए। उन्होने कहा कि व्यापारी इस देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है लेकिन वर्तमान समय में व्यापारी समाज आर्थिक एवं व्यापारिक कठिनाइयों का सामना कर रहा है। उन्होने सरकार से मांग करते हुये कहा कि व्यापारी हित एवं जनहित में इन बिंदुओं पर सहानुभूति पूर्वक विचार कर निर्णय लिया जाए जिससे व्यापारिक, औद्योगिक और आर्थिक गतिविधियों में नई ऊर्जा का संचार हो सके। ज्ञापन देने वालो में दुर्गेश गुप्ता (जिला महामंत्री), हरी प्रताप सिंह (युवा जिला अध्यक्ष), अशोक गुप्ता (नगर अध्यक्ष), मनीष चैहान (युवा नगर अध्यक्ष), कमलेश अवस्थी (जिला उपाध्यक्ष), खुनखुन अवस्थी (मीडिया प्रभारी), गजेंद्र सिंह, नौशाद इराकी, इशरत अली, विवेक सिंह, प्रसून शुक्ला, शिवम गुप्ता, राकेश अवस्थी, सचिन गुप्ता, विक्रांत सेठ, प्रदीप रस्तोगी, अनीस मंसूरी, गगन सिंह, राजकुमार गुप्ता, मनोज सिंह, अंशुमान मिश्रा, आकाश पाठक, सचिन गुप्ता, राकेश अवस्थी मुख्य रूप से उपस्थित रहे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव