सी.एम.एस. की तीन शिक्षिकाओं को मिला ‘रिलायन्स फाउण्डेशन टीचर अवार्ड’


 लखनऊ,
21 अक्टूबर। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, चैक कैम्पस की तीन शिक्षिकाओं सुश्री आत्मिका जायसवाल, सुश्री फहमीना एरम सिद्दीकी एवं सुश्री इंसिया फातिमा को शिक्षण पद्धति में उल्लेखनीय योगदान हेतु ‘रिलायन्स फाउण्डेशन टीचर अवार्ड’ से नवाजा गया है। इन शिक्षिकाओं को सेंटा टीचिंग प्रोफेशनल्स ओलम्पियाड में अद्वितीय प्रदर्शन हेतु इस सम्मान से नवाजा गया है, जिन्होंने अपनी शिक्षणेतर प्रतिभा व प्रोफेशनल कौशल का परचम लहराकर लखनऊ का गौरव बढ़ाया है। सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि सी.एम.एस. चैक कैम्पस की इन शिक्षिकाओं ने वर्तमान दौर में छात्रों की क्षमताओं को समझते हुए अपनी शिक्षण पद्धति में सृजनात्मकता व नवीनता को प्रमुखता से अपनाया है और नवीनतम तकनीकों का उपयोग कर ‘टीचिंग-लर्निंग’ के उच्चस्तरीय मानक स्थापित करने उल्लेखनीय भूमिका निभाई है। सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने तीनों शिक्षिकाओं को उनकी सफलता हेतु हार्दिक बधाई दी है।

श्री शर्मा ने बताया कि ‘रिलायन्स फाउण्डेशन टीचर अवार्ड’ की शुरूआत वर्ष 2018 में हुई, जो शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्टता हेतु शिक्षकों की उपलब्धियों को सम्मानित करता है। रिलायन्स फाउण्डेशन के सी.ई.ओ. श्री जगन्नाथ कुमार ने सी.एम.एस. शिक्षकाओं की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि आपकी सफलता से प्रेरित होकर अन्य शिक्षक भी शिक्षण के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की ओर अग्रसर होंगे।

श्री शर्मा ने बताया कि सी.एम.एस. शिक्षकों की लगन व कर्तव्यनिष्ठा के बलबूते ही विद्यालय दिन प्रतिदिन नये कीर्तिमान गढ़ रहा है तथापि सी.एम.एस. शिक्षकों ने विद्यालय के 62 वर्षीय शैक्षिक सफर में कई आयाम स्थापित किए हैं जिस पर सिर्फ लखनऊवासियों को ही नहीं अपितु पूरे प्रदेश व देश को गर्व है। इन्हीं विद्वान शिक्षकों की बदौलत सी.एम.एस. अपने छात्रों को भौतिक, सामाजिक एवं आध्यात्मिक तीनों प्रकार की शिक्षा देकर उन्हें चुस्त एवं संतुलित व्यक्तित्व का धनी, मानव जाति के लिए ईश्वर का उपहार एवं टोटल क्वालिटी पर्सन बनाने के लिए प्रयत्नशील है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक