दिग्गज नेता, इंदिरा गांधी के करीबी व कई बार विधायक रहे लालन शर्मा पंचतत्व में विलीन


 पूर्व विधायक की अन्तिम यात्रा में उमड़ा जन सैलाब 

मल्लावां हरदोई। मल्लावां विधानसभा से तीन बार विधायक और एक बार एमएलसी रहे दिग्गज कांग्रेसी नेता लालन शर्मा का मेहंदीघाट गॉड ऑफ ऑनर के साथ उनके पुत्र हरदोई चेयरमैन मधुर मिश्र द्वारा मुखाग्नि देकर उनका अंतिम संस्कार किया गया। शव यात्रा में हजारों की संख्या में पहुंचे लोगों ने उन्हें नम आंखों के साथ अंतिम विदाई दी। शनिवार को मल्लावां-बिलग्राम क्षेत्र के दिग्गज नेता तीन बार के लगातार विधायक और एक बार के एमएलसी और इंदिरा गांधी के करीबी माने जाने वाले लालन शर्मा का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया था। उनके निधन की जानकारी जैसे ही उनके समर्थकों को लगी शोक का वातावरण फैल गया। रविवार को उनके पैतृक आवास माधौगंज उनका पार्थिक शरीर लाया गया। सुबह से ही उनके आखिरी दर्शन के हुजूम देखा गया। करीब 10 बजे  अंतिम संस्कार के लिए उनका पार्थिक शरीर मेहंदीघाट ले जाया गया। क्षेत्राधिकारी बिलग्राम विशाल यादव की मौजूदगी में सशस्त्र जवानों ने उन्हें गार्ड आफ ऑनर देकर सलामी दी। उनका अंतिम संस्कार पुत्र सुख सागर मिश्र“ मधुर“ चेयरमैन ने मुखाग्नि नम आंखों के साथ देकर अंतिम संस्कार किया। इस दौरान उनके छोटे भाई पूर्व विधायक धर्मज्ञ मिश्र, भतीजे माधौगंज चेयरमैन अनुराग मिश्र “छोटे भैया“, पौत्र मिलन मिश्र, भाजपा नेता राजेश पाठक, पूर्व जिला पंचायत सदस्य अशोक त्रिपाठी, वरिष्ठ पत्रकार अरविंद कुमार मिश्र, अमृतलाल दीक्षित, विमलेश मिश्रा सहित क्षेत्र के हजारों लोग मौजूद रहे।

1965 में पहली बार बने थे विधायक 

बाबा टाटधारी के बड़े पुत्र लालन शर्मा ने 1965 में दिग्गज विधायक जेपी मिश्रा को निर्दलीय 14 हजार मतों से पराजित कर पहली बार विधायक बने थे। उसके बाद लगातार तीन बार विधायक रहे। चैथे चुनाव में पराजय का मुंह देखने पर इंदिरा गांधी ने उन्हें बुलाकर विधान परिषद का सदस्य बनाकर उनका रुतबा कायम रखा था। लालन शर्मा के निधन से एक युग का अंत हो गया।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव