किसान सीधी विधि से करें धान की बोवाई,कम लागत में अधिक

 


लखीमपुर, किसानों को पारंपरिक  विधि से धान की रोपाई छोड़कर सीधी विधि से धान की बुआई करनी चाहिए। एकरनेक्स्ट टेक्नॉलजी विधि से धान की खेती करने पर लागत बेहद कम और उत्पादन ज्यादा होगा। पिछले कई वर्षों से मौसम की मार झेल रहे किसानों को सीधी बुआई से धान की खेती करने पर कई तरह के लाभ मिलेंगे।यह सलाह सोमवार को कोर्टेवा एग्रीसाइंस के विशेषज्ञ एग्रोनोमिस्ट मोहम्मद मुस्तकीम मलिक ने किसानों को  रेहुआ फार्म पर आयोजित एक गोष्ठी में दी है। जिला मुख्यालय से करीब 25 किलोमीटर दूर कार्यक्रम का आयोजन किया गया था।इसमें दूर दूर से किसान सीधी बोआई को देखने आए थे।

उन्होंने बताया कि आमतौर पर किसान रोपनी विधि से ही धान की खेती करते हैं। लेकिन वर्षा कम होने या समय पर बरसात नहीं होने के कारण धान की रोपाई समय से नहीं हो पाती है। ऐसी स्थिति को देखते हुए किसानों को धान की सीधी बुआई करनी चाहिए। धान की सीधी बुआई संसाधन संरक्षित खेती की एक तकनीक है। जिसमें 50 प्रतिशत जल, डीजल , मजदूरी आदि की लागत में कम हो जाता है। उन्होंने बताया कि धान की सीधी बुआई करने के लिए किसान खेतों को रेजर द्वारा समतलीकरण करने के बाद धान के प्रमाणित बीजों का चयन करें। 5 मई से 15 जून तक सीधी विधि से धान की बुआई करने के लिए उपयुक्त समय है। इस विधि से बुआई करने में मात्र 15 किलोग्राम बीज प्रति हेक्टेयर का प्रयोग करना होता है। धान की बुआई के लिए किसान धान की सीड ड्रिल मशीन का प्रयोग कर सकते हैं । इस विधि से बुआई करने पर खाद की मात्रा बेहद कम लगती है तथा सिचाई में पानी का भी कम प्रयोग होता है।रोटावेटर से मिट्टी में मित्र कीट केचुआ मर जाते है।उन्होंने किसानों को बेहतर खेती के लिए नई तकनीक की सलाह दी।

रमनीश गर्ग , जितेंद्र कुमार शाह व  राजीव जी  ने बताया कि धान की सीधी बुआई में बीज की गहराई महत्वपूर्ण है,बीज की गहराई 2-3 सें.मी. रखें। अधिक गहरी या उथली बुआई से जमाव प्रभावित होता है। अधिकतर ड्रिल मशीन या प्लान्टर में बीज नियंत्रक पहिया होता है, जिसके द्वारा बीज की गहराई को समायोजित किया जाता है। बुआई करके पाटा लगाएं, जिससे नमी संरक्षित रह सके और बीज का अच्छा जमाव हो सके। 

मौक़े पर जोगा सिंह, अजीत सिंह , शीशा सिंह, सुमित सिंह, जस्प्रीत सिंह एवं कोर्टेवा टीम के अन्य सदस्य मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव