सी.एम.एस. के पूर्व छात्र व विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव श्री प्रकाश गुप्ता ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को सम्बोधित किया

 


लखनऊ,
19 अक्टूबर। सिटी मोन्टेसरी स्कूल के पूर्व छात्र व भारत सरकार के विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव श्री प्रकाश गुप्ता, आई.एफ.एस., ने अभी हाल ही में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अपने विद्वतापूर्ण भाषण से देश का गौरव सारे विश्व में बढ़ाया है, साथ ही वैश्विक व समावेशी विचारधारा से विश्व के राजनेताओं को अपनी अद्वितीय क्षमता व प्रतिभा से प्रभावित किया। श्री गुप्ता ने विभिन्न वैश्विक समस्याओं की ओर विश्व समुदाय का ध्यान आकृष्ट किया, विशेषकर  सोमालिया के मौजूदा हालातों पर प्रकाश डालते हुए अन्तर्राष्ट्रीय पटल पर भारत के विचारों और दृष्टिकोण को बखूबी प्रस्तुत किया। पेश किया व शान्तिपूर्ण समझौते की बात की। देश-विदेश की प्रख्यात राजनीतिक हस्तयों ने उनके विचारों को ध्यानपूर्वक सुना एवं उनकी सोच, वाक्पटुता व प्रभावशाली भाषण की भूरि-भूरि प्रशंसा की।

सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने श्री गुप्ता की उपलब्धि पर हार्दिक प्रसन्नता व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक बधाई दी और कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में श्री गुप्ता ने जिस प्रकार के विचार प्रस्तुत किए, उससे मुझे ऐसा अहसास हुआ कि जैसे ’जय जगत‘ का नारा जैसे विश्व भर में गूँज उठा है। डा. गाँधी ने प्रफुल्लित स्वर में कहा कि विगत 63 सालों से सी.एम.एस. जिन आदर्शो पर चलता आ रहा है, श्री गुप्ता ने उसका प्रत्यक्ष स्वरूप  विश्व समुदाय के समक्ष प्रस्तुत किया है।

सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि श्री प्रकाश गुप्ता की माॅन्टेसरी से लेकर आई.एस.सी. तक की सम्पूर्ण शिक्षा सी.एम.एस. स्टेशन रोड कैम्पस में हुई एवं आगे चलकर प्रकाश गुप्ता का चयन सिविल सर्विस परीक्षा द्वारा इण्डियन फ़ाॅरेन सर्विस (आई.एफ.एस.) में हुआ। प्रकाश ने यू.एस.ए. (अमेरिका), इण्डोनेशिया व अन्य देशों में महत्वपूर्ण पदों पर रहकर भारत सरकार की सेवा की। मौजूदा समय में वह भारत सरकार, नई दिल्ली के विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (यू.एन. पोलिटिकल एण्ड समिट्स) के पद पर आसीन है। संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद की सभा में भारत का प्रतिनिधित्व करना, भारत के विचार रखना व वहां उपस्थित महान नेताओं को प्रभावित कर उनके दिल जीतना, आपने आप में एक अद्भुत व प्रशंसनीय कार्य है। श्री प्रकाश गुप्ता अपनी सफलता का सम्पूर्ण श्रेय अपने शिक्षकों व सी.एम.एस. के शैक्षिक वातावरण को देते हैं जिसके द्वारा उन्होंने हर कदम पर सही निर्णय लिया और भारत का नाम रोशन किया।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक