विधानसभा चुनाव में भाजपा को हराकर समाजवादी पार्टी की सरकार बनाने के लिए करूंगा काम:सुभाष पाल

 


विधानसभा चुनाव में भाजपा को हराकर समाजवादी पार्टी की सरकार बनाने के लिए करूंगा काम-सुभाष पाल

हरदोई। जनपद के मल्लावां बिलग्राम विधानसभा क्षेत्र से सपा के टिकट पर चुनाव लड़ चुके सपा के चर्चित नेता सुभाष पाल ने भाजपा सरकार को डरी हुई अत्याचारी, शोषण करता सरकार बताते हुए कहा कि राजनीतिक कारणों से उन पर गुंडा एक्ट के तहत कार्रवाई और जिला बदर की सजा को उच्च न्यायालय ने समाप्त कर उसके मुंह पर करारा तमाचा मारने का काम किया है। हरदोई के एक होटल में पत्रकारों से बातचीत के दौरान सपा नेता सुभाष पाल ने कहा कि संपन्न हो चुके जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने अपनी संभावित हार के डर से मेरे ऊपर तथ्यहीन व बेबुनियाद आरोप मढ़कर गुंडा एक्ट की कार्रवाई करा कर मुझे जिला बदर करा कर जैसे-तैसे चुनाव तो जीत लिया। लेकिन उच्च न्यायालय ने राजनीतिक कारणों से दी गई सजा और एफ आई आर निरस्त कर मुझे भाजपा के शोषण अत्याचार से मुक्त दिलाई। सपा नेता सुभाष पाल ने इस जीत को न्याय, सत्य और सदाचार की जीत करार दिया। सपा नेता सुभाष पाल ने कहा कि समाजवादी पार्टी की पूरे जनपद में बढ़ रही लोकप्रियता व बिलग्राम विधानसभा क्षेत्र में मेरे बढ़ते जनाधार के चलते भाजपा ही डरे हुए हैं। उन्होंने इस बात की भी आशंका व्यक्त की कि भाजपा के इशारे पर उनके विरुद्ध कोई कार्रवाई नए सभी नए सिरे से करा कर उन्हें जेल भिजवाने का षड्यंत्र रचा जा रहा है ताकि वह न तो पूरे जनपद में चुनाव प्रचार कर पाए और न चुनाव लड़ सके। सुभाष पाल ने कहां की भाजपा की सरकार ने अपनी करारी शिकस्त के चलते यदि मुझे जेल भिजवा भी दिया तो मेरे मां, भाई, बहन मेरे निकटवर्ती रिश्तेदार, पूरे जनपद में फैले हुए मेरे समर्थक भारतीय जनता पार्टी को करारी शिकस्त दिलाने के लिए दिन रात कड़ा परिश्रम करेंगे और भारतीय जनता पार्टी को विधानसभा चुनाव में पराजय का कड़वा घूंट पीने पर मजबूर कर देंगे। सपा नेता सुभाष पाल की प्रेस वार्ता के दौरान सपा जिला अध्यक्ष जीतू वर्मा, पूर्व सपा जिला अध्यक्ष पम्मू यादव, हरदोई की पूर्व सांसद ऊषा वर्मा भी मौजूद थी।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव