एडीओ पंचायत सामुदायिक शौचालय का नहीं बता रहे सही डाटा

 




मछरेहटा /सीतापुर,
मछरेहटा विकासखंड की ग्राम पंचायत शाहपुर में बना सामुदायिक शौचालय लगभग 1 साल हो रहा है लेकिन आज तक शौचालय में ना तो अभी तक सीट भी नहीं रखी गई ना ही अंदर टाइल्स लगे लगाए गए जबकि स्वच्छ भारत मिशन का मकसद की की ग्रामीण बाहर सोचना जाकर शौचालय में ही समझ जाएं भारत सरकार का यह नारा था जहा सोच वही शौचालय लेकिन ब्लाक के कर्मचारियों की न सोच बदली शौचालय बना आज भी ग्रामीण खुले में शौचालय जाने के लिए विवश है ऐसी दशा में सरकार कैसे होगी स्वच्छ भारत मिशन की योजना पूरी इससे यह प्रतीत होता है जिम्मेदारों की लापरवाही कितनी बड़ी है सामुदायिक शौचालय आज भी मात्र शोपीस बनकर ही रह गए ग्राम पंचायत शाहपुर निवासी अभिषेक सिंह ने बताया की शौचालय मात्र शो पीस बना है बाहर से डेंटिंग पेंटिंग हो गई लेकिन अंदर ना तो अभी तक सीट नहीं रखी गईशाहपुर निवासी गुड्डू ने बताया शौचालय की छत जो पड़ी है वह बरसात में टपक भी रही है और काफी घटिया किस्म का निर्माण कराया गया

एडीओ आईएसबी अनिल कुमार ने बताया मछरेहटा में 73 ग्राम पंचायतों 68 सामुदायिक शौचालय स्वयं सहायता समूह को हैंड ओवर किए जा चुके हैं मछरेहटा में 73 पंचायतों में प्रत्येक समूह को एक ही सामुदायिक शौचालय दिया जाएगा सामुदायिक शौचालय के रखरखाव के लिए शासन द्वारा स्वयं सहायता समूह को 9000 रुपए प्रत्येक माह दिए जाते हैं जिसमें ₹1000 बिजली बिल ₹2000 रखरखाव और ₹6000 समूह का मानदेय दिया जाता है

एडीओ पंचायत गौरव मिश्रा से इस संबध में बात की गई जो सही जानकारी नहीं  73ग्राम पंचायतों में बन रहे सामुदायिक  शौचालय अधिकाश  निर्माणाधीन है जब उनसे कितने शौचालय हैंडओवर किए गए  यह गड़ना पूछी तो बताया दूसरे दिन डाटा देख कर बताएंगे इससे यह प्रतीत होता की योगी सरकार में अधिकारी व कर्मचारी कितने लापरवाह है

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक