कश्मीर घाटी में आतंकियों के खात्मे के लिए बनाए गए बंकर, 1990 के बाद फिर पैदा हुए हालात

 


कश्मीर में पिछले दो हफ्तों में आतंकवादियों द्वारा आम लोगों की हत्या किए जाने के करीब आठ साल बाद शहर की सड़कों पर सुरक्षा बंकरों की वापसी हो रही है और घाटी में अर्धसैनिक बलों के और अधिक जवान तैनात किए जा रहे हैं। 1990 के दशक में घाटी में आतंकवाद के चरम पर होने के दौरान भी ऐसी कोई चीज मौजूद नहीं थी। श्रीनगर में हवाई अड्डा मार्ग पर बरजुल्ला पुल पर ऐसे दो बंकर बनाए गए हैं। 

भाषा के मुताबिक, केंद्रीय सशस्त्र अर्धसैनिक बलों (सीएपीएफ) द्वारा श्रीनगर के कई इलाकों में सुरक्षा बंकर तैयार किए जा रहे हैं, जहां कश्मीर में सुरक्षा स्थिति में समग्र सुधार के बाद 2011 और 2014 के बीच इन्हें हटा दिया गया था।

सूत्रों ने कहा कि नए बंकरों का निर्माण और अधिक सुरक्षाकर्मियों की तैनाती घाटी में आतंकी घटनाओं पर लगाम कसने के लिए की जा रही है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद की हालिया घटनाओं से पता चलता है कि आतंकवादी वारदात को अंजाम देने के कुछ समय में ही एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में चले जाते हैं, इसलिए केवल क्षेत्र में वर्चस्व स्थापित करके ही आतंकियों पर अंकुश लगाया जा सकता है। आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि आम लोगों की हत्याओं के मद्देनजर घाटी में विशेष रूप से श्रीनगर में सुरक्षा तंत्र को मजबूत करने के लिए अतिरिक्त अर्धसैनिक बलों की 50 कंपनियां तैनात की जा रही हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक