10 से 12 बजे के बीच अपने दफ्तरों में नहीं मिले 14 DM और 16 जिलों के कप्तान, योगी ने मांगा जवाब


 लखनऊ ,मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के रियलिटी चेक में शुक्रवार को 30 अफसर फेल हो गए। इनमें 14 डीएम और 16 जिलों के कप्तान शामिल हैं। दरअसल, अफसर अपने दफ्तरों में रहते हैं या नहीं, इसकी जानकारी करने के लिए शुक्रवार को सीएम योगी ने दो बार उनकी लोकेशन ट्रेस कराई। लेकिन दोनों बार ये अफसर अपने दफ्तरों में नहीं मिले। लोकेशन ट्रेस करने के लिए दफ्तरों में लगे लैंडलाइन नंबर पर फोन किया गया था।

पुलिस विभाग की स्थिति जानने के लिए काम को तीन-तीन जोन में बांटा गया। तीन जोन में डीजीपी मुकुल गोयल ने खुद फोन किया और तीन जोन में एडीजी एलओ के कार्यालय से फोन किया गया। इन सभी अफसरों को 9:30 बजे के पहले और 10 बजे के बाद दो बार फोन किया गया।

वहीं, जिलाधिकारियों की रियलिटी जानने मुख्यमंत्री कार्यालय और मुख्य सचिव कार्यालय की तरफ से फोन किया गया। सीएम ने गैरहाजिर डीएम/पुलिस कप्तान को नोटिस जारी कर दिया गया है। संतोषजनक जवाब न मिलने पर गाज गिरनी तय है।

हर दिन सुबह 10 से 12 बजे तक फरियादियों को सुनें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी जिलाधिकारी और पुलिस कप्तान को सख्त निर्देश दिया है कि वे हर दिन सुबह 10 से 12 बजे तक अपने कार्यालयों में रहें और फरियादियों की समस्याएं सुनें। जो भी अधिकारी जनता दर्शन कार्यक्रम से नदारद रहेगा, उस पर कठोर कार्रवाई की जाएगी। इसकी मॉनिटरिंग मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव कार्यालय के साथ-साथ एसीएस होम, डीजीपी स्तर से की जाएगी।

भ्रष्ट और दागी अफसरों की बन रही लिस्ट

मुख्यमंत्री ने कहा, अवैध गतिविधियों में संलिप्त भष्ट आचरण के लोगों के लिए यूपी पुलिस में कोई स्थान नहीं होना चाहिए। ऐसे लोगों को चिन्हित कर सूची तैयार की जाए। सभी के विरुद्ध नियमानुसार कार्रवाई होगी। अति गंभीर अपराधों में लिप्त पुलिस अधिकारियों, कार्मिकों की बर्खास्तगी की जाए।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव