महंत नरेंद्र गिरी मौत मामले की जांच के लिए SIT का हुआ गठन

 


प्रयागराज। अखिल भारतीय अखाड़ परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी मौत मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है। जिसकी अगुवाई सीओ अजीत सिंह चौहान करेंगे। इस एसआईटी में कुल 18 सदस्य होंगे, जो मामले को अच्छी तरह से खंगालेंगे।  

उलझ रही है मौत की मिस्ट्री

शुरुआती जानकारी के आधार पर पुलिस ने आत्महत्या का मामला बताया लेकिन मौत के कारणों को जानने के लिए एसआईटी का गठन किया गया है। अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने बताया था कि महंत नरेंद्र गिरी को उनके अनुयायिओं ने दरवाजा तोड़कर फंदे से उतारा। मौके पर एक कथित सुसाइड नोट मिला है, जिसमें महंत के अपने शिष्य आनंद गिरि की प्रताड़ना से परेशान होने की बात कही गई है। आपको बता दें कि इस सुसाइड नोट बलबीर गिरी का नाम भी लिखा हुआ है।

8 पेज का सुसाइड नोट आया सामने 

सुसाइड नोट में महंत नरेंद्र गिरी ने आत्महत्या करने का निर्णय लिया। कथित सुसाइड नोट में लिखा है कि मेरी मौत की जिम्मेदारी आनंद गिरी, अद्या प्रसाद तिवारी, संदीप तिवारी की होगी।  प्रयागराज के सभी पुलिस अधिकारी एवं प्रशासनिक अधिकारियों से अनुरोध करता हूं। मेरे आत्महत्या के जिम्मेदार उपरोक्त लोगों पर कानूनी कार्यवाही की जाए, जिससे मेरी आत्मा को शांति मिले।  

CBI जांच की मांग वाली याचिका दायर

महंत नरेंद्र गिरी की कथित आत्महत्या की सीबीआई से जांच कराने के अनुरोध के साथ इलाहाबाद हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को उनके ईमेल पर एक पत्र याचिका भेजी गई है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव