जांच में दोषी पाये गये प्रधानाध्यापक पर नही हो रही कार्यवाही

 


मुख्यमन्त्री को पत्र भेजकर की कार्यवाही कराये जाने की मांग 

हरदोई। बावन ब्लॉक के गॉव साविरपुर में प्रधानाआध्यापक की जांच के मामले में 4 बीईओ ने अपनी रिपोर्ट दे दी है। रिपोर्ट के आधार पर बीएसए ने भी दोषी माना है। लेकिन प्रधानाआध्यापक के खिलाफ कार्यवाई के नाम पर खानापूरी की गई है। शिकायतकर्ता ने प्रभावी कार्यवाई के लिए मुख्यमंत्री को पत्र भेजा है। बेहटागोकुल थाना छेत्र के गॉव साविरपुर में 16 जुलाई को प्राइमरी विधालय के प्रधानाध्यापक हेमंत पांडेय के द्वारा थाने में दी गयी थी तहरीर में कहा गया कि निजामपुर गॉव के प्रधान प्रतिनिधि सतीश वर्मा ने शुक्रवार को उनकी गैर मौजूदगी में स्कूल आकर सरकारी दस्ताबेज उठाकर अपने घर लिए गए और बहा मौजूद शिक्षको के सामने इनको भला वुरा कहा था। पुलिस ने इस मामले में मुकदमा दर्ज करके विवेचना शुरू कर दी है। बही दूसरी तरफ इस गॉव के प्रधानपति सतीश वर्मा ने मुख्यमंत्री को शिकायती पत्र देकर स्कूल में चल रहे फर्जीवाड़े और अनियमितताओ की शिकायत की थी मुख्यमंत्री का निर्देश आते ही बीएसए ने इस मामले में खंडशिक्षा अधिकारी बावन, टोडरपुर, सुरसा और सांडी के खंड शिक्षा अधिकारियों की टीम गठित कर दी। इन चारो अधिकारी ने इस मामले की जांच की। 31 सितंबर को प्रधान सविता देवी को बयान और साक्ष्य के लिए बुलाया गया है जांच में प्रधानाआध्यापक हेमंत पांडेय दोषी भी पाया गया। लेकिन कार्यवाई के नाम पर सिर्फ दो वेतन वृद्धिया अस्थाई रोकने का आदेश दिया गया। जो कि सिर्फ खानापूरी है। प्रधानपति सतीश वर्मा ने मुख्यमंत्री को शिकायती पत्र भेजकर प्रधानाआध्यापक हेमंत पांडेय के खिलाफ कार्यवाई की मांग की है


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव