शौचालय निर्माण में लाखों का घोटाला पूर्व प्रधान और सचिव पर घोटाले का आरोप

 


शाहाबाद।
ग्राम पंचायत नगला खानपुर में शौचालयों निर्माण में लाखों के घोटाले के आरोप लग रहे हैं। प्रधान प्रतिनिधि अजयप्रताप सिंह ने पूर्व प्रधान सचिव पर शौचालय निर्माण में बड़े घोटाले का आरोप लगाते हुये उच्च स्तरीय समिति से जांच कराए जाने की मांग की है। नगला खानपुर में पूर्व प्रधान रामनाथ और सचिव की निगरानी में बनवाये गए लगभग 500 शौचालयों के निर्माण की हकीकत प्रधान पति अजयप्रताप अधिकारियों के समक्ष रख चुके हैं। शौचालयों की जो हकीकत सामने आई है वह बड़ी चैकाने वाली है। यहां पूर्व प्रधान रामनाथ के कार्यकाल में आवंटित किये गए लगभग 500 शौचालयों में बमुश्किल 50 फीसदी ही चालू हालत में हैं। शेष शौचालयों में किसी में छत नहीं है तो किसी में दरवाजे और दीवार भी नहीं है तो बहुत से सीट बिहीन हैं। लगभग 80 से शौचालयों का नामोनिशान तक नही है। बड़ी बात यह है कि शौचालय निर्माण हेतु दी जाने वाली धनराशि लाभार्थियों के खाते में न देकर फर्मों के खातों पर भेजी गई थी। पूर्व प्रधान द्वारा अपनी ही निगरानी में शौचालयों का निर्माण उन्ही फर्मों से सामान लेकर कराया था। ताकि बड़ी धनराशि का गोलमाल किया जा सके। इस सम्बंध में ग्रामीणों ने बताया कि सेक्रेटरी ने दूसरी क़िस्त भी उनसे निकलवा ली थी। इसलिये लाभार्थी को न तो पैसा मिला और न ही शौंचालय पूर्ण हो पाए। इसके विपरीत जिम्मेदारों का कहना है कि वर्ष 2019 के अंत में 55 शौचालयों की धनराशि वापस की गई थी। यही हाल नगला खानपुर में आवासों का है, धांधली का सच सामने आते ही जिम्मेदार लीपापोती में जुट गए है। जिन 2 लोंगो को आवास दिये गए वह लोग गांव में ही नही रहते हैं। ग्राम पंचायत में बिटाना पत्नी राम और राज पत्नी दिनेश नाम का कोई भी लाभार्थी नही है। जबकि रामौतार पुत्र सुमेर की जगह वल्दियत बदलकर अपात्र को आवास दे दिया गया है। गांव वासियों ने पूर्व प्रधान पर शौचालयों और आवासों में बड़ा घोटाला करने का आरोप लगाया है। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव