हरदोई। फ़र्ज़ी तरीके से वीआईपी नम्बर के सिम बेचने वाले गिरोह का किया भंडाफोड़

 


दो सगे भाई व एयरटेल कम्पनी के अधिकारी समेत चार को भेजा जेल

हरदोई। जिले की पुलिस ने बड़े जालसाज़ों का भंडाफोड़ करते हुये दो सगे भाईयों सहित चार लोगो को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। कोतवाली शहर व स्वाट की संयुक्त टीम ने ऐसे गिरोह को धर दबोचा है जो लोगों के वीआईपी नम्बर के सिम को बन्द करवा कर फर्जी तरीके से चालू कराकर दूसरे लोगों को बेचा करते थे। एसपी अजय कुमार ने घटना का खुलासा करते हुये बताया कि ये अंतरराज्यीय साइबर अपराध करने वाले गैंग के सदस्य हैं। इस गिरोह का सरगना राकेश पाल अपने भाई प्रवेश पाल एयरटेल कम्पनी के रिटेलर व अन्य साथियों के साथ मिलकर ऐयरटेल मित्रा ऐप के माध्यम से वीआईपी सिम नम्बर के आखिरी बार हुए रिचार्ज की जानकारी कर लेते थे फिर उस सिम की डिटेल लेने के लिए एयरटेल कम्पनी के फस्र्ट टाइम एक्टिवेशन ऑफिसर अरुण कुमार से सम्पर्क कर सिम धारक का नाम पता व सारी डिटेल सहित फोटो मंगवा लेता था, उसी फोटो और डिटेल से प्ले स्टोर पर उपलब्ध फेक पैन कार्ड ऐप के माध्यम से फ़र्ज़ी कूट रचित पैनकार्ड भी खुद ही बना लेता था, और उसका इस्तेमाल करके सिम स्वैप करने की प्रकिया शुरू करता था, सिम स्वैप करने के दौरान स्वैप कराने वाले व्यक्ति की लाइव फ़ोटो ली जाना अनिवार्य होने के कारण ये शातिर फेस स्वैप एप्लिकेशन के माध्यम से फोटो को लाइव इमेज में कन्वर्ट कर के सभी दस्तावेजों को एयरटेल मित्र ऐप पर अपलोड जर देते थे, इसके बाद एयरटेल कम्पनी का एक्टिवेशन अधिकारी अरुण कुमार सभी दस्तावेजों को स्वीकृत करके उस मोबाइल नम्बर को एक्टिव कर देता और यूनिक पेंटिंग कोड निकालकर उसको मनमाने दामों पर बेचता था। इन सिमों को खरीदने बेचने के लिए लखनऊ, जयपुर, उड़ीसा व देश के कई हिस्सों में गिरोह के लोग काम कर रहे हैं, इनकी कीमत हज़ारों से लाखों रुपये तक पहुँच जाती थी, एसपी ने बताया कि इन सभी अभियुक्तों के पास से एक लैपटॉप, अवैध तरीके से स्वैप किये गए वीआईपी नम्बर के 16 सिम व 9 मोबाईल फोन बरामद हुए हैं, इन सभी को न्यायालय के समकक्ष पेश किया जाएगा तथा खुलासा करने वाली टीम को 25 हज़ार का नगद इनाम दिया जाएगा, खुलासा करने वाली टीम में शहर कोतवाली प्रभारी दीपक शुक्ला, स्वाट टीम प्रभारी ब्रज किशोर, कोतवाली शहर के उप निरीक्षक संतोष शुक्ला, हेड कॉन्स्टेबल होरी लाल, कांस्टेबल हरपाल, कांस्टेबल राजेश यादव, कांस्टेबल लोकेंद्र व सर्विलांस सेल के हेड कॉन्स्टेबल इरफान ने अपर पुलिस अधीक्षक अनिल यादव व नगर क्षेत्राधिकारी विकास जायसवाल के नेतृत्व में इस गिरोह का भंडाफोड़ किया।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव