शोपीस बनकर रह गया रहजनिया गांव का स्वास्थ्य उप केंद्र


पसगवां खीरी।
कोरोनावायरस महामारी के बावजूद भी स्वास्थ्य विभाग ने ग्राम पंचायतों में बने स्वास्थ्य उपकेंद्र को जीर्णोद्धार करने की जरूरत तक नहीं समझी। आलम यह है कि लाखों रुपया खर्च कर ग्रामीणों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए सरकार के द्वारा ग्राम पंचायतों में स्वास्थ्य उपकेंद्र निर्मित कराए गए। लेकिन वर्षो बीत जाने के बाद भी स्वास्थ्य उपकेंद्र का कोई खयाल तक रखने वाला नही है और न ही इनकी देखरेख।


पसगवां विकासखंड के रहजनिया ग्राम पंचायत में बने स्वास्थ्य उपकेंद्र का भी यही आलम है यहां इस स्वास्थ्य उप केंद्र की स्थिति देखकर इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि इस उप केंद्र की ओर या तो किसी सरकारी मशीनरी की नजर नहीं जाती या फिर जानबूझकर इन लाखों रुपयों से बनाई गई सरकारी बिल्डिंग को नजरअंदाज किया जा रहा है। ग्रामीणों की मानें तो यह केंद्र बनने के बाद कुछ दिन तक इन पर एनम आदि के द्वारा केंद्रों को खोलकर बैठा गया, लेकिन उसके बाद से दोबारा किसी के द्वारा इनके ताले तक नहीं खोले गए, जिसका परिणाम यह है कि स्वास्थ्य उपकेंद्र के बाहर एक भारी-भरकम गंदे बदबूदार पानी का गड्ढा तथा आसपास घनी झाड़ियां हो गई हैं।


क्या बोले जिम्मेदार - 
रोजाना उपकेंद्र नहीं खोले जाते हैं क्योंकि टीकाकरण होता है। इसलिए सप्ताह में दो दिन ही उप केंद्र खोले जाते हैं। रहजनिया का उपकेंद्र बंद है। इसकी जानकारी नहीं है, दिखवाया जाएगा।
डॉ अश्विनी कुमार, सीएचसी अधीक्षक, पसगवां।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव