तीन तेरह के बन्दर बांट में फंसी जल संरक्षण मिशन योजना , सीडीओ ने बीडीओ व एपीओ का वेतन रोकने के दिये निर्देश

 


शाहाबाद।
ब्लाक में जल संरक्षण मिशन के कार्यों में ब्लाक प्रशासन की लापरवाही खुलकर सामने आ गई है। उक्त योजना में गड़बड़ी को देखते हुये सीडीओ आकांक्षा राणा ने बीडीओ और एपीओ मनरेगा के वेतन रोकने के निर्देश दिये हैं। सरकार की अति महत्वपूर्ण जल संरक्षण मिशन योजना में मनरेगा योजना के तहत 65 फीसदी कार्य कच्चा और 35 फीसदी कार्य पक्का किया जाना था परंतु जिम्मेदारों ने मानकों को ताक पर रखते हुये उक्त योजना में सिर्फ 35 फीसदी ही कच्चा कार्य किया हैं। तथा 65 फीसदी पक्का कार्य कराकर योजना को बड़ा चूना लगा दिया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बीडीओ प्रमेन्द्र पांडेय ने जल संरक्षण मिशन जैसे कार्यों पर खर्च न कर, अधिकांश भुगतान अन्य कार्यों पर खर्च कर दिया। जिसे संज्ञान में आते ही सीडीओ आकांक्षा राणा ने कड़े तेवर दिखाते हुए नाराजगी जाहिर की और बीडीओ प्रमेंद्र पांडे व एपीओ मनरेगा विनय सक्सेना का वेतन रोकने के आदेश जारी कर दिए। सीडीओ ने भविष्य में जल संरक्षण खर्च होने तक अन्य सभी कार्यों पर रोक लगा दी है। जिससे सरकारी धन डकारने वालों में अफरा तफरी मची हुई है। सीडीओ ने ग्राम पंचायतों में सभी पक्के कार्यों को जल संरक्षण मिशन कार्य न पूरे होने तक ग्राम निधि से अन्य कोई कार्य न कराए जाने के निर्देश दिए हैं। गौरतलब हो कि शासनादेश के अनुसार जल संरक्षण मिशन के अंतर्गत जिले में ब्लाक शाहाबाद चयनित है। उक्त योजना में शासन का स्पष्ट  निर्देश कि कुल खर्च का 65 फीसदी जल संरक्षण मिशन व अन्य प्राकृतिक संसाधनों से जुड़े कार्यों पर ही खर्च किया जाए। परंतु चालू वित्तीय वर्ष में मनरेगा के अंतर्गत ब्लाक शाहाबाद में कुल 8 करोड़ 46 लाख रुपए का कार्य कराया जा चुका है लेकिन जल संरक्षण और प्राकृतिक संसाधनों के प्रबंधन से जुड़े कार्यों पर सिर्फ तीन करोड़ 13 लाख ही खर्च हुए। शेष धनराशि बीडीओ की मिलीभगत से अन्य कार्यों में खर्च कर दी गयी। जल संरक्षण मिशन के कार्यों में 65 प्रतिशत के सापेक्ष 35 प्रतिशत अटक गई। जल संरक्षण मिशन के अंतर्गत तालाब निर्माण, मेड़बंदी, भूमि सुधार, वर्मी पोस्ट, पौधारोपण आदि कार्य प्राथमिकता में कराए जाने थे परंतु जिम्मेदारों ने इसके विपरीत निज लाभ वाले कार्य करा कर सरकारी धन का बंदरबांट कर योजना को पलीता लगाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी। जिसके चलते जल शक्ति मिशन में ब्लाक शाहाबाद जिले में सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया  है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव