गांव में घुसा नहर का पानी, ग्रामीणांे के सामने आयी नई मुसीबत


 मछरेहटा सीतापुर ।
हाल ही में हुई तूफानी बारिश से जहां एक ओर किसानों की फसलें चैपट हो गई है और किसान खेतों में जाकर अपना मत्था ठोक रहा है वहीं दूसरी ओर धरातल पर होने वाली मुसीबतों से भी उसको दो दो चार होना पड़ता है बात करते हैं मछरेहटा विकासखंड की ग्राम पंचायत बेलंदा पुर के मजरा रामनगर की। मछरेहटा से होते हुए फतहनगर की ओर जाने वाली छोटी नहर में इस समय पानी छोड़ा गया है नहर और डामर सड़क का लेबल बराबर होने के कारण नहर का पानी जहां-तहां सड़क को पार करके गांव वालों के लिए मुसीबत बनता जा रहा है नहर का निरीक्षण करने निकले संवाददाता जब बेलंदापुर के मजरा रामनगर पहुंचे तो पानी का नजारा देखकर दंग रह गए क्योंकि नहर का पानी सड़क पर इतना भरा हुआ था कि यह अनुमान लगाना मुश्किल हो रहा था कि बाइक को कैसे आगे निकाला जाए बाइक खड़ी करने के बाद जब गांव की ओर देखा तब तो हालत और भी बुरी थी गांव वाले बाहर आ रहे थे लड़के बाहर से जा रहे थे और नहर का पानी गांव की गली में एक दूसरी नहर बनाता हुआ बह रहा था। गांव के लोगों से पूछने पर उन्होंने बताया कि यह पानी कई दिन से लगातार बह रहा है ग्राम पंचायत के प्रधान और अन्य किसी से भी कहने पर कोई सुनवाई नहीं हो रही है और ना ही यहां पर कोई अधिकारी देखने नहीं आया हम लोग इसी तरह गांव से बाहर आने जाने के लिए मजबूर हैं पानी के अंदर से गुजरती हुई एक महिला ने अपना पैर दिखाते हुए बताया कि कई दिन से इसी पानी के अंदर से आने जाने के कारण उसके पैर सड़ने लगे ऐसी स्थिति में प्रश्न यह उठता है कि विकास की दुहाई देने वाले ब्लॉक के अधिकारी कर्मचारी आखिर कहां है और ग्राम पंचायतों की की दशा देखने वे क्यों नहीं जाते हैं सिंचाई विभाग से संबंधित अधिकारी या अधीनस्थ कर्मचारी भी नहर की पटरी को दुरुस्त करने की जहमत उठाना नहीं चाहते केवल फाइलों में नहर की खुदाई  पटाई और सफाई का काम चलता रहता है और भारी भरकम राशि अधिकारियों के जेब में जाती रहती है ऐसा भी नहीं है कि अधिकारी इन सब चीजों से अनजान है इस संबंध में सिंचाई विभाग के जेई हंस कुमार से जब बात की गई तो उन्होंने बताया कि ऐसी किसी भी स्थित की जानकारी उन्हें नहीं है यदि कोई भी कोई भी जानकारी होगी तो तत्काल ठोस कार्यवाही की जाएगी इसके लिए उन्होंने संवाददाता से बाकायदा मौके की फोटो भी मंगवाई जो उन्हें भेज दी गई इस पर उन्होंने आश्वासन दिया कि त्वरित कार्यवाही की जाएगी अब देखना यह है कि आखिर गांव वाले इस नहर के बहते हुए गंदे पानी से कब निजात पाएंगे और ऐसी ठोस कार्यवाही कब तक होगी ।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव