अनसुलझे सवालों को जन्म दे गई नन्हकू की हत्या

 


नहर पुलिया के पास सड़क किनारे मिला था वृद्ध का शव 

शाहाबाद। एक सप्ताह पूर्व रिश्तेदारी में गये बृद्ध की शनिवार की सुबह हरदोई शाहजहांपुर मार्ग पर थाना बेहटा गोकुल क्षेत्र में बड़ी नहर पर सड़क किनारे शव मिला था। मृतक के भाई की तहरीर पर पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या की एफआईआर दर्ज पचदेवरा थाने के पिपरिया गांव के 5 लोंगो को जेल भेज कर मामले को दबाने का प्रयास किया। परंतु नन्हकू की हत्या कई अनसुलझे सबालों को जन्म दे गई। थाना बेनीगंज के भैनगांव का रहने वाला नन्हकू लुधियाना में काम करता था। वह बुधवार को जनपद शाहजहांपुर के मझारी गांव मे आया हुआ था वहीं से वह लापता हो गया।बताया गया है कि पचदेवरा थाना क्षेत्र के गांव  पिपरिया की कुछ महिलाओं ने मृतक को देखकर शोर मचाया तो ग्रमीणों ने उस्की पिटाई कर दी। ग्राम प्रधान ने घायल नन्हकू को पुलिस के हवाले कर दिया था। बताया जा रहा है कि पुलिस घायल नन्हकू को सीएचसी ले गयी जहां से डॉक्टर की गैर मौजूदगी में उसे रिफर कर दिया। सोमवार को उसका शव बेहटा गोकुल थाना क्षेत्र में नहर के पास सड़क किनारे अर्धनग्न अवस्था में पाया गया। बेहटा गोकुल पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिये भेजकर जांच शुरू की। जांच के दौरान 5 लोंगों द्वारा पिटाई करने का मामला साबित होने पर पुलिस ने उन्हें हिरासत में लेकर जेल भेज दिया। वहीं पचदेवरा पुलिस के मुताबिक नन्हकू को पाली पीएचसी से हरदोई रेफर किया गया था। उसके बाद की असलियत तो एम्बुलेंस चालक ही बता सकता है। वहीं एम्बुलेंस चालक अमित का कहना है कि नन्हकू टोडरपुर के नहर किनारे सड़क पर कूद गया। जिससे चोट लगने से उसकी मौत हो गयी। अब सबाल उठता है कि जब घायल एम्बुलेंस से कूदकर गिर गया और उसकी मौत हो गयी। तो इसकी सूचना उच्च अधिकारियों को क्यों नही दी गयी। अब सवाल उठता है कि नन्हकू पिपरिया कैसे पंहुचा और पुलिस किस वाहन से ले गयी तथा किस डाक्टर ने मृतक को रिफर किया। रिफर करते समय घायल जीवित था या मौत हो चुकी थी। इन तमाम अनसुलझे सबालों का जबाव किसी के पास नही है। नन्हकू की हत्या से उठे सबालों पर पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की चुप्पी और कई सबालों को जन्म दे रही है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव