सी.एम.एस. छात्रा पौलोमी ने अनाथ बच्चों के अधिकार व शिक्षा की आवाज बुलंद कर फेमिना की ‘फेब-40’ में बनाई जगह

 


लखनऊ
, 21 सितम्बर। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) की छात्रा पौलोमी पावनी शुक्ला ने विश्वप्रसिद्ध पत्रिका फेमिना की ‘फेब-40’ लिस्ट में स्थान अर्जित कर लखनऊ का नाम अन्तर्राष्ट्रीय पटल पर गौरवान्वित किया है। पौलोमी  अनाथ बच्चों की शिक्षा-दीक्षा व उनके लिए समान अधिकार की आवाज उठाने में सदैव मुखर रही हैं और उनके इन्हीं अतुलनीय प्रयासों को ‘फेब-40’ के माध्यम से अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर सराहा गया है। पौलोमी के साथ ही देश की अन्य जानी-मानी हस्तियों को ‘फेब-40’ सूची में शामिल किया गया है, जिनमें अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा, ओलम्पिक विजेता मीराबाई चानू व पी.वी. सिंधू, सामाजिक क्षेत्र की प्रमुख हस्तियां जैसे कुशा कपिला, मीनाक्षी लेखी, नीता अंबानी, महुआ मोईत्रा, बरखा दत्त, राना अयूब, मसाबा गुप्ता, भूमि पेडनेकर आदि। इसके अलावा, सुप्रीम कोर्ट की महिला न्यायाधीश व भारत के मंगल मिशन में योगदान देने वाली महिला वैज्ञानिक शामिल हैं। देश की इन जानी-मानी व प्रख्यात हस्तियों के साथ सी.एम.एस. छात्रा का ‘फेब-40’ सूची में शामिल होना लखनऊ व उत्तर प्रदेश के लिए अत्यन्त गौरव की बात है। विदित हो कि सामाजिक क्षेत्र में अतुलनीय योगदान हेतु सी.एम.एस. की पौलोमी पावनी शुक्ला को ‘फोर्ब्स इंडिया 30 अण्डर 30’ की विशिष्ट सूची में शामिल किया जा चुका है।

सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी व डा. भारती गाँधी ने सी.एम.एस. छात्रा की इस ऐतिहासिक उपलब्धि पर खुशी जाहिर की है। डा. जगदीश गाँधी ने पौलोमी के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि फेमिना की ‘फेब-40’ सूची में सी.एम.एस. छात्रा का चयनित होना पूरे सी.एम.एस. के साथ ही लखनऊवासियों के लिए गर्व का विषय है। पौलोमी ने सामाजिक दायित्व के अपने कार्यों से लखनऊ का नाम रोशन किया है। उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त की कि सी.एम.एस. छात्र विभिन्न क्षेत्रों में भारत का नाम रोशन कर रहे हैं।

सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि पौलोमी पावनी शुक्ला सी.एम.एस. गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) से आई.एस.सी. की परीक्षा उच्च अंको से उत्तीर्ण की है। पौलोमी पढ़ाई के साथ ही विद्यालय के सामाजिक जागरूकता के कार्यक्रमों में सदैव अग्रणी रही है। स्कूली शिक्षा के उपरान्त गरीब व अनाथ बच्चों के हित में अतुलनीय कार्य कर पौलमी ने देश की एक प्रख्यात स्वयंसेवी के रूप में अपनी पहचान स्थापित की है। वे उच्चतम न्यायालय में अधिवक्ता है और अनाथ बच्चों को शिक्षा और अधिकार दिलवाने के लिए लगातार प्रयास कर रही हैं। पौलोमी के माता-पिता श्रीमती आराधना शुक्ला व श्री प्रदीप शुक्ला एवं पति श्री प्रशांत शर्मा आई.ए.एस. अधिकारी हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव