हरदोई : सेक्रेट्री ने एक ही परिवार के पांच लोंगों को दे दिये आवास


 जिम्मेदारोें की लापरवाही से आवास आवंटन में बड़ा गड़बड़ झाला

शाहाबाद। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बनवाए गए आवास पर उठ रहे सवालों के बाद ग्राम पंचायत में बबाल मचा हुआ है। जिसे लेकर गम्भीर बीडीओ ने जांच करने की बात कहकर मामले को निपटाने का आश्वासन गांव वालों को दिया है। बतातें चलें कि ग्राम पंचायत के 8 सदस्यों ने आवासों में धांधली करने का आरोप लगाते हुए जांच की मांग की है। ग्राम पंचायत सदस्य सौरव सिंह ललिता देवी, सुरेश चंद, फुल्लू, मोनिका, सुशील कुमार ने बीडीओ प्रवेंद्र पांडेय को दिए गए प्रार्थना पत्र में आवासों में धांधली किए जाने का आरोप पूर्व प्रधान रामनाथ व सचिव उदय यादव सिंह पर लगाया है। आरोप है कि सचिव और पूर्व प्रधान ने गांव के 3 परिवारों में 12 लोंगों को आवास का लाभ दे दिया। मजरा गौरिया में सगे 4 भाइयों और उनकी मां को भी आवास दिये जाने की पुष्टि हो रही है। आरोप है कि तत्कालीन ग्राम प्रधान व सचिव ने खुली बैठक न करके बिना पड़ताल ही आवासों का आवंटन अपनी मर्जी से अपात्र लोगों को किया है। ग्राम पंचायत के अधिकांश पात्र लाभार्थियों को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है या यूं कहें कि अपात्रों से पैसा लेकर पात्र व्यक्तियों को सरकारी लाभ से वंचित कर दिया गया। इस कारण अनेक गरीब और असहाय परिवारो को अपने बच्चों को छत के बिना जीवित रखना मुश्किल हो रहा है। मजरा गौरिया में रीता पत्नी बब्बन का पक्का मकान पुराना बना हुआ था जिसे प्रधान व सचिव ने पक्का लेंटर तुड़वा दिया और उसे आवास स्वीकृत कर दिया। ऐसे तमाम लोगों के आवास स्वीकृत किए गए हैं जो अपात्र हैं। पूर्व प्रधान ने सचिव से मिलकर अपने चहेते अपात्र व्यक्तियों को आवासीय योजना से लाभान्वित कर दिया। शिकायत कर्ताओं ने बताया है कि पैसा देने वाले अपात्रों के खातों में सीधे धनराशि भेज दी गयी और न देने वालों को सूची से ही गायब करा दिया गया। इस बाबत बीडीओ प्रवेंद्र पांडेय ने बताया कि शिकायत मिली है। बुधवार को वह जांच करने गांव जाएंगे। यदि आवास आवंटन में कोई गड़बड़ी पायी जाती है तो जिम्मेदारों पर कार्यवाही की जाएगी।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक