पुलिस के लिए सिरदर्द बने लुटेरे लूट की घटनाओं का खुलासा न होने से दहशत


 शाहाबाद हरदोई
,। पूर्व में आंझी स्टेशन और पाली मार्ग पर हुई लूट का खुलासा न कर पाने वाली पुलिस के लिए शुक्रवार का दिन भी मुसीबतों से भरा रहा। जब एक निजी कम्पनी के प्रबंधक से हथियार बन्द बदमाशों ने दिन दहाड़े एक लाख 35 हजार की लूट कर ली। हालांकि पुलिस कई घण्टों तक हाथ पैर मारती रही परंतु लुटेरों तक पुलिस के हाथ नहीं पँहुच सके। देर शाम एसपी ने आकर घटनास्थल का जायजा लिया और जल्द खुलासे के निर्देश दिये। कोतवाली क्षेत्र में जितेंद्र के साथ 06 अगस्त को हुई दिनदहाड़े लूट की घटना ने पुलिस की चुनौतियां बढ़ा दी है। क्योंकि कुछ दिन पूर्व पाली थाना क्षेत्र में हुई लूट का खुलासा पुलिस अभी तक नहीं कर पाई। पुलिस के लिए सिरदर्द बने शातिर लुटेरे एक और लूट की घटना को अंजाम देकर मौके से फरार हो गए। हालांकि पुलिस क्राइम ब्रांच की मदद लेकर लुटेरों की तलाश कर रही है। जानकारी के अनुसार भारत फाइनेंस लिमिटेड कंपनी के मैनेजर जितेंद्र कुमार अपने एक साथी के साथ बाइक से बेझा रोड पर ग्रामीण अंचलों मैं चलाए जा रहे विभिन्न समूहों को सरकारी धनराशि भुगतान करने जा रहे थे। तभी बेझा चौराहे के निकट पहले से ही घात लगाए लुटेरों ने उनके ऊपर तमंचा लगाकर एक लाख 35 हजार रुपया लूट लिया और भाग गए। पीड़ित के मुताबिक लुटेरे दो बाइको पर 4 की संख्या में थे। चौकी जामा मस्जिद क्षेत्र में घटी इस घटना ने पुलिस की शिथिलता को उजागर कर दिया। कंपनी के मैनेजर ने घटना के संबंध में स्थानीय पुलिस को पूरी जानकारी दी। पुलिस सूत्रों के अनुसार लूटेरों तक पहुंचने के लिए पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीमें बराबर छापेमारी कर रही है। वहीं पुलिस अधीक्षक अजय कुमार ने घटना स्थल का जायजा लिया और कोतवाली पुलिस को घटना का पर्दाफाश करने के निर्देश दिये। इससे पूर्व अप्रैल में सुबह सुबह आंझी स्टेशन पर जहीरूद्दीन कोटेदार के साथ हुई लूट की घटना का भी खुलासा इंस्पेक्टर शिव शंकर सिंह अभी तक नहीं कर सके। हां यह और बात है कि पुलिस ने इस लूट की घटना की रिपोर्ट तक दर्ज नहीं की।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक