हरदोई: कोतवाली के चक्कर लगाकर महिला परेशान, पुलिस नहीं लिख रही मुकदमा

 


पति को छुड़ाने के नाम पर की  गई 1 लाख 70 हजार की ठगी

पुलिस कह रही है ज्यादा परेशानी हो तो उच्चाधिकारियों के पास जाओ।
पिहानी,हरदोई। एक गरीब और अनपढ़ महिला से अपने आप को पत्रकार बताकर उसके पति को जेल से छुड़ाने के नाम पर एक  धोखेबाज ने 1 लाख 70 हजार रुपए ठग लिए। अब महिला न्याय की भीख मांगते हुए आए दिन कोतवाली का दरवाजा खटकटाती है लेकिन पुलिस के कानों में जूं तक नहीं रेंगती है।
बताते चले कि पिहानी थाना क्षेत्र के सिरकिटिया गांव निवासी मंजू श्री एक गरीब और अनपढ़ महिला है। मंजू श्री ने बताया है कि उनके पति को कुछ महीने  पहले एक हत्या के मामले में फंसा दिया गया था। जिसमे मंजू श्री के रिश्ते में जीजा लगने वाले एक युवक ने हरियांवा थाना के नेदुरा गांव निवासी खालिद से मिलवाया और खालिद ने महिला से कहा की 170000 रुपए लगेंगे और तुम्हारा पति जेल से हमेशा के लिए आजाद हो जायेगा। अपने पति को बचाने का प्रयास हर भारतीय नारी करती ही है। महिला ने जैसे तैसे करके पैसों को इकट्ठा किया जिसमे उसने कुछ पैसे अपनी बेटी की ससुराल वालो से भी लिए थे । मंजूश्री ने यह भी बताया कि पैसों को लेने खालिद उसके घर गया था और कहा था कि ये पैसे पुलिस को देने होंगे जल्दी ही तुम्हारा पति जेल से छूट जायेगा लेकिन काफी समय बीतने के बाद भी जब पति जेल से नहीं छूटा तो मंजू श्री ने अपने पति की जमानत करवाई और खालिद से अपने पैसे वापस मांगे । लेकिन खालिद अब टाल मटोल करने लगा जिसके चलते मंजू श्री ने कोलवाली पिहानी में तहरीर दी । तहरीर पर पुलिस ने 70000 रुपए तो दो बार में दिलवा दिए लेकिन अब 2 महीने से खालिद और पुलिस दोनो महिला को बेवकूफ बना रहे है। महिला कोतवाली के चक्कर लगा लगा कर परेशान हो गई है लेकिन पुलिस ना तो पैसे ही दिलवा रही है और न ही मुकदमा दर्ज कर रही है। जब महिला थाने जाती है तो वहां से यह कह दिया जाता है कि क्या मुझसे पूछ कर पैसे दिए थे जो तुम रोजचाली आती हो। धीरे धीरे खालिद पैसे दे देगा ले लेना नहीं तो तुम उच्च अधिकारियों के पास चली जाओ। आज जब साकेत लहर के संज्ञान में ये बात आई तब कोतवाल पिहानी ने हमारी टीम से भी यही कहा कि आप मंजू श्री को उच्चाधिकारियों के पास भेज दीजिए। इसका मतलब यह निकलता है कि वह न ही मुकदमा दर्ज करेंगे और ना ही उन्हें उच्चाधिकारियों का कोई डर है। आखिर पुलिस मुकदमा क्यों नही दर्ज कर रही है।अगर किसी को उच्चाधिकारियों के पास ही जाना है तो फिर कोतवाल और कोतवाली की पिहानी में जरूरत ही क्या है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव