जूनियर हाईस्कूलों में 16 अगस्त से शुरू होंगे एडमिशन, दो शिफ्ट में होगी पढ़ाई


 कोविड महामारी के बेहतर होते हालात के बीच यूपी के स्कूल-कॉलेज फिर से गुलजार होने जा रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर प्राथमिक को छोड़ सभी शिक्षण संस्थान स्वतंत्रता दिवस के दिन 15 अगस्त से खुलेंगे। हालांकि पढ़ाई 16 अगस्त से शुरू होगी। माध्यमिक विद्यालय दो शिफ्ट में सुबह 8 से 12 बजे और अपराह्न 12:30 बजे से शाम 4:30 बजे तक खुलेंगे। आधे विद्यार्थियों को पहली पाली में, बाकी आधे विद्यार्थियों को दूसरी पाली में बुलाया जाएगा। इसके साथ ही अब 6वीं से 8वीं तक की कक्षाओं में दाखिला शुरू करने की तैयारी है।

बुधवार को एक उच्च स्तरीय बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्कूल-कॉलेजों में नए सत्र की शुरुआत की तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि बच्चों और अभिभावकों की स्वास्थ्य सुरक्षा को शीर्ष प्राथमिकता देते हुए प्राथमिक से ऊपर के विद्यालयों में भौतिक रूप से पठन-पाठन होना चाहिए। राज्य स्तरीय स्वास्थ्य विशेषज्ञ सलाहकार समिति ने विगत दिनों स्कूलों के खोले जाने के संबंध में अपनी अनुशंसा दी है।

गाइडलाइन का पूरी तरह करना होगा पालन

विशेषज्ञों की सलाह के अनुसार 16 अगस्त से 50 फीसदी क्षमता के साथ दो पालियों में विद्यालयों में पठन-पाठन हो। माध्यमिक विद्यालयों के लिए शासन द्वारा जारी गाइडलाइन को बेहतर बताते हुए मुख्यमंत्री ने इसी तर्ज पर सभी शिक्षण संस्थानों के लिए दिशा-निर्देश जारी करने के निर्देश दिए। सीएम ने कहा कि जूनियर हाईस्कूलों में 06वीं से 08वीं तक की कक्षाओं में दाखिले की प्रक्रिया 16 अगस्त से शुरू कर दी जाए। स्थिति का आकलन करते हुए एक सितंबर से पढ़ाई भी शुरू की जा सकती है। इस दौरान कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जारी गाइडलाइन का पूरी तरह पालन करना होगा। 

18 वर्ष से अधिक उम्र के विद्यार्थियों के टीकाकरण के लिए विशेष शिविर:

स्कूल खुलने के साथ ही सभी शिक्षण संस्थानों में 18 वर्ष से अधिक आयु के विद्यार्थियों के टीकाकरण भी किए जाएंगे। मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार टीकाकरण शिविर स्कूल परिसर में ही आयोजित होंगे।

इस आर्टिकल को शेयर करें

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक