नैमिष की तपोभूमि पर लग रहा गुनाहों का जमघट

 


छलावा साबित हो रहे एसडीएम के आदेश और गददारी साबित हो रही एसएचओ की कार्यवाही

सीतापुर। नैमिष की तपोभूमि पर गनाहगारों का जमघट लगा हुआ हैं। नियम  कायदे कानून को ताख पर रखकर सरकारी व गरीबो, व सीधे साधे लोगों की जमीनों पर कब्जा किया जा रहा है। शिकायत के बाद भी कोई ठोस कार्यवाही नही की जा रही है। मदन गोपाल के लिये तो एसडीएम का आदेश केवल छलावा ही साबित हो रही है और एसडीएम के आदेश के एवज में जो कार्यवाही नैमिष कोतवाली प्रभारी द्वारा की जा रही है वह केवल गददारी के सिवा और कुछ भी नही है। क्या एसएचओ यह जानकारी दे सकते है कि वह मदन गोपाल के विपक्षी कब्जेदारों को किस आधार पर कब्जा कर नंीव भरवाने मौका दे रहा है जब एसडीएम के कार्यवाही के आदेश दिये है तो कार्यवाही क्यो नही की जा रही है। क्या एसडीएम के आदेश को लेकर एसएच ओ को किसी और से भी परमिशन लेने की जरूरत है। क्या न्याय और इंसाफ पर सलाह भारी पडेगी। आज नैमिषारण्य थानाध्यक्ष स्वयं कठघरे में खडे हो गये है और उनसे सवाल पूछा जा रहा है कि एसडीएम के आदेश के बाद वह गुनाहगारों के विरूद्ध ठोस कार्यवाही क्येा नही कर पा रहे है क्येाकि गरीब और सीधे साधे व्यक्ति की जमीन पर कब्जा करवाया जा रहा हैं। क्या मदन गोपाल सीधा साधा व्यक्ति है कानून का पालन करने वाला है पुलिस को देखकर डर जाता है इस कारण  पुलिस अपनी खाकी का रूतबा उस गरीब पर दिखा रही है। मदन गोपाल में उपजिलाधिकारी मिश्रिख को लिखित शिकायती प्रार्थना पत्र दिया जिस पर एसडीएम ने अवैध कब्जा रूकवाने सम्बन्धी आदेश दिये लेकिन नैमिषारण्य कोतवाल द्वारा कब्जेदारों का साथ दिया जा रहा हैै। सत्यनारायण , जयराम, गोपाल, सहित करीब आधा दर्जन लोगों के नाम शिकायती  प्रार्थना पत्र में है इसके बाद भी कोई कार्यवाही न होना अपने आपमें अहम हैं।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक