मोदी कैबिनेट में यूपी से अनुप्रिया, सत्यदेव, रीता जोशी, प्रवीण निषाद, कठेरिया , कौशल किशोर के मंत्री बनने के मिल रहे संकेत


 कई सांसदों को दिल्ली पहुंचने के लिए कहा गया

केंद्र की मोदी सरकार के मंत्रिमंडल के विस्तार को लेकर यूपी में भी हलचल तेज हो गई है। यूपी विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए मोदी मंत्रिमंडल में उन्हीं चेहरों को जगह दी जा सकती है, जो जातीय समीकरण के हिसाब से फिट बैठेंगे। सूत्रों के अनुसार यूपी के 10 सांसदों के नामों पर चर्चा हुई है, जिनमें से पांच से छह चेहरे मंत्रिमंडल में जगह पा सकते हैं। इनमें अनुप्रिया पटेल, सत्यदेव पचौरी, रीता जोशी, प्रवीण निषाद, राम शंकर कठेरिया का नाम सबसे आगे है।

सूत्रों के अनुसार जातीय गणित के हिसाब से ऐसे संकेत मिले हैं कि यूपी के जिन चेहरों को शामिल किया जाएगा, उसमें जातीय समीकरण का पूरा ख्याल रखा जाएगा। यूपी से मोदी कैबिनेट में शामिल होने वाले चेहरों में प्रयागराज से रीता जोशी, कानपुर से सत्यदेव पचौरी, बस्ती से हरीश द्विवेदी में से किसी एक को शामिल किया जा सकता है।

कैबिनेट में दलितों चेहरे के रूप में इटावा से सांसद प्रोफेसर राम शंकर कठेरिया को एक बार फिर से जगह मिल सकती है। कठेरिया मोदी सरकार के पहले टर्म में राज्य मंत्री रह चुके हैं। साथ ही वह केंद्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष भी रह चुके हैं।

जातीय समीकरण के हिसाब से मंत्रिमंडल में फिट करने की कोशिश

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव एवं कौशांबी एमपी विनोद कुमार सोनकर और मोहन लालगंज सांसद कौशल किशोर भी मंत्री बनने की दौड़ में शामिल हैं। कौशल किशोर वर्तमान में उप्र अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष भी बनाए गए हैं।

मोदी कैबिनेट में पाल समुदाय के प्रतिनिधित्व के लिए एसपी सिंह बघेल को मंत्रिमंडल में जगह दी जा सकती है जबकि मेरठ के रहने वाले और वैश्य समाज से जुड़े सांसद राजेंद्र सिंह अग्रवाल भी इस दौड़ में शामिल हैं।

इसके अलावा सहयोगी दलों में संतकबीर नगर सांसद प्रवीन निषाद और सहयोगी अपना दल अनुप्रिया पटेल को जगह मिल सकती है। सूत्रों का कहना है कि जिन सहयोगी दलों को मोदी कैबिनेट में जगह नहीं मिल पाएगी उन्हें योगी सरकार में एडजस्ट किया जा सकता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक