भाई ने बहन को पुल पर ले जाकर दिया धक्का; ग्रामीणों ने बचाया


बाराबंकी में एक भाई अपनी बहन की जान दुश्मन बन बैठा। उसने जमीन के लालच में बहन को जान से मारने का प्रयास किया। घाघरा नदी के पुल पर ले जाकर उसे नीचे धक्का दे दिया। डूबता देख ग्रामीणों ने उसे बचाया। बचकर आने के बाद लड़की ने आरोपी भाई की इस करतूत के बारे में पुलिस को बताया।

पीड़िता के मुताबिक, उसके भाई ने जमीन के लालच में उसे नदी में फेंक दिया। वह उसे दवा दिलाने के बहाने लखनऊ से बाराबंकी ले गया था। गाड़ी पंचर होने का बहाना कर नीचे उतारा था।

श्रावस्ती के रहने वाले भाई-बहन
घटना बाराबंकी जिले के टिकैतनगर कोतवाली क्षेत्र के तिलवारी गांव के पास की है। श्रावस्ती जिले के भिनगा कोतवाली क्षेत्र का मो. कासिम बहन गुलकुसा के नाम जमीन होने पर परेशान था। कोई रास्ता न सूझने पर उसने उसे मारने की प्लानिंग कर डाली।

बीमार होने पर मिल गया बहाना
बहन गुलकुसा के बीमार होने पर भाई को साजिश को अंजाम तक पहुंचाने का बहाना मिल गया। आरोपी मो. कासिम बहन का इलाज कराने के लिए उसे लखनऊ लेकर आया। वापस लौटते समय रास्ते में गाड़ी पंचर की बात कहकर घाघरा नदी के पुल पर गाड़ी रोक दी। बहन को किनारे ले जाकर धक्का दे दिया। लड़की को डूबते हुए कुछ लोगों ने देखा तो शोर मचाया। इतने में नाव लेकर कुछ ग्रामीण डूबती लड़की की ओर आगे बढ़ गए और उसे बचा लिया। बचने के बाद लड़की ने पूरी बात बताई।

पिता ने बेटी के नाम की थी जमीन
गुलकुसा के माता-पिता की मौत हो चुकी है। मरने से पहले पिता ने जमीन बेटी के नाम कर दी थी, ताकि उसकी शादी में पैसे की कमी आड़े न आए। पिता की मौत के बाद संपत्ति को लेकर भाई की नीयत डोल गई और उसने अपनी सगी बहन की हत्या करने का प्रयास किया। पीड़िता के बयान के आधार पर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव