स्कूल संगठनों की जोरदार माँग, विद्यालयों कोअविलम्ब खोले सरकार


प्राईवेट स्कूलों की समस्याओं पर विचार-विमर्श हेतु ‘मंथन’ का आयोजन

निजी विद्यालयों को आर.टी.आई. एक्ट के अन्तर्गत लाने का कड़ा विरोध
लखनऊ, 23 जुलाई: उत्तर प्रदेश के विभिन्न प्राईवेट स्कूल संगठनों के प्रतिनिधियों ने आज निजी विद्यालयों से जुड़ी विभिन्न समस्याओं जैसे लगभग 500 दिनों से विद्यालयों का लगातार बंद रहना, प्राईवेट स्कूलों को आर.टी.आई. एक्ट के अन्तर्गत लाना एवं आर.टी.ई. एक्ट की तमाम विसंगतियों पर गहन चर्चा-परिचर्चा की एवं प्रदेश सरकार से निजी स्कूलों की समस्याओं पर ध्यान देने की पुरजोर अपील की। एसोसिएशन आॅफ प्राईवेट स्कूल्स, उ.प्र. एवं नेशनल इण्डिपेन्डेन्ट स्कूल्स एलायन्स (नीसा) के संयुक्त तत्वावधान में सी.एम.एस. कानपुर रोड आॅडिटोरियम में आयोजित प्रदेश के सभी निजी विद्यालय के संगठनों की मीटिंग ‘मंथन’ में आज लखनऊ, वाराणसी, अलीगढ़, कानपुर, मुरादाबाद, मुजफ्फरनगर, गोंडा आदि विभिन्न जिलों व मंडलों से पधारे निजी स्कूल संगठनों के प्रतिनिधियों ने विद्यालयों को तत्काल खोलने की जोरदार वकालत की तो वहीं दूसरी ओर स्वयं के संसाधनों पर निर्भर निजी विद्यालयों की स्वायतता को खत्म करने हेतु विद्यालयों को राईट टू इन्फार्मेशन (आर.टी.आई.) एक्ट के अन्तर्गत लाने की घोर आलोचना करते हुए इसे एक असंवैधानिक कदम बताया।
इस मीटिंग में बोलते नेशनल इण्डिपेन्डेन्ट स्कूल्स एलायन्स (नीसा) के प्रेसीडेन्ट श्री कुलभूषण शर्मा ने कहा कि कोरोना से निपटने में उत्तर प्रदेश अग्रणी रहा है परन्तु जहाँ बिहार, पंजाब, हरियाणा आदि राज्यों में स्कूल खुल गये हैं तो फिर यूपी में स्कूलों का न खुलना एक विडम्बना ही है। श्री अनिल अग्रवाल, प्रेसीडेन्ट, अनएडेड स्कूल्स एसोसिएशन ने अपने संबोधन में कहा कि वार्तालाप से ही सभी समस्याओं का समाधान संभव है। हम प्रजातान्त्रित तरीके से आर.टी.आई. एक्ट की विसंगतियों से प्रदेश सरकार को अवगत कराना चाहते हैं। श्री विशाल जैन, प्रेसीडेन्ट, काॅनफडरेशन आॅफ इण्डिपेन्डेन्ट स्कूल्स, मेरठ, ने कहा कि स्कूलों का बंद होना सिर्फ बच्चों का ही नहीं अपितु समाज व देश का नुकसान है। श्री अतुल श्रीवास्तव, प्रेसीडेन्ट, यूपी स्कूल्स एसोसिएशन ने कहा कि आर.टी.ई एक्ट के अन्तर्गत प्रशासन को विद्यालय को प्रति-छात्र व्यय के अनुसार धनराशि की प्रतिपूर्ति करनी चाहिए। सी.एम.एस. संस्थापक डा. जगदीश गाँधी ने स्कूल प्रबंधकों से अपील की कि अपनी समस्याओं से जनमानस को अवगत करायें एवं पब्लिक ओपिनियन बनायें, जिसका शासन-प्रशासन पर सकारात्मक असर पड़ता है। सी.एम.एस. प्रेसीडेन्ट प्रो. गीता गाँधी किंगडन ने प्रदेश के विभिन्न संगठनों की एकता पर बल देते हुए राज्य स्तरीय संगठन बनाने का सुझाव दिया, जिसके बैनर तले प्रदेश के सभी संगठन एक स्वर में अपनी आवाज बुलन्द कर सकें। मीटिंग के अन्त में एक प्रेस कान्फ्रेन्स का आयोजन हुआ। इस अवसर पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों ने कहा कि बच्चों के सर्वांगीण विकास हेतु स्कूली पढ़ाई को कोई विकल्प नहीं है। ऐसे में, स्कूलों को अब अविलम्ब खोल देना चाहिए। इण्डियन काउन्सिल आॅफ मेडिकल रिसर्च (आई.सी.एम.आर.) ने भी स्कूलों को खोलने के पक्ष में अपनी सहमति दे दी है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव