हड़ताल के बीच एंबुलेंसकर्मी फांसी पर झूला

 


निजी कंपनी GVK ने बगावती तेवरों वाले एंबुलेंस कर्मियों पर कार्रवाई की

लखनऊ,एंबुलेंस कर्मी अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर डटे हुए हैं। इसी बीच धरने पर बैठे एक एंबलेंसकर्मी ने शुक्रवार शाम 5 बजे वहीं पेड़ पर फंदा लगा लिया। गनीमत रही कि बाकी साथियों ने समय रहते फंदे सहित उसे उठा लिया। इस घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस फोर्स ने हड़तालियों को खदेड़ने की कोशिश की लेकिन एंबुलेंसकर्मी कल भी हड़ताल पर अड़े हैं।

कर्मियों का दावा है कि जब तक मांगे नही मानी जाएंगी प्रदर्शन जारी रहेगा। वहीं, सर्विस प्रोवाइडर प्राइवेट कंपनी व स्वास्थ्य विभाग के अफसर जल्द ही हड़ताल खत्म होने का दावा कर रहे हैं।

लखनऊ CMO का दावा है कि कुछ कर्मचारी पहले ही काम पर लौट आएं है। लखनऊ में एंबुलेंस सेवा सुचारु है। बाकी के कर्मी भी जल्द ही काम पर वापस लौट आएंगे। उधर, निजी कंपनी ने 24 घंटे में प्रदेश भर के हालात सामान्य होने की बात कही है। अब तक 700 हड़ताली कर्मचारियों पर कार्रवाई की जा चुकी है।

एंबुलेंस कर्मियों की हड़ताल पर शुरू हुई राजनीतिक रार
इधर, मरीजों को एंबुलेंस न मिलने से परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं, विपक्षी दल भी इस मसले पर सरकार को कोसते नजर आ रहे हैं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने 29 जुलाई ट्विटर के जरिए इस मामले में योगी सरकार पर निशाना साधा।

GVK ने किया 130 हड़ताली कर्मियों को बर्खास्त, अब तक 700 पर कार्रवाई
वहीं, निजी कंपनी GVK ने बगावती तेवरों वाले एंबुलेंस कर्मियों पर कार्रवाई की है। 29 जुलाई को 130 कर्मियों के टर्मिनेशन लेटर जारी हुए हैं। इससे पहले 570 कर्मियों को निकाला गया था। 29 जुलाई देर शाम एक बार फिर से कंपनी के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट व यूपी प्रभारी टीवीएसके रेड्डी ने बयान जारी करके दावा किया कि हमारे कर्मचारी काम पर वापस लौटने लगे हैं। शुक्रवार देर रात तक कुछ और एम्बुलेंस कर्मियों के वापस काम पर लौटने की उम्‍मीद है। ज्‍यादातर जिलों में शत-प्रतिशत एंबुलेंस सेवाएं शुरू हो चुकी हैं। इसके साथ ही पुराने बायोडाटा को खंगाल कर चालकों की भर्ती प्रक्रिया भी जारी है|

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव