पुलिस की नाक के नीचे धड़ल्ले से पिलाई जा रही शराब: प्रशासन मौन

 





शराबियों का अड्डा बन चुका है अल्लापुर तिराहा

आए दिन होता रहता है विवाद

हरदोई। शाहाबाद के कई स्थानों पर मौजूद दुकानदार शराबियों को पहले बिठाकर शराब पिलाते हैं और उनसे मोटी कमाई करने की फिराक में रहते हैं जिससे दुकानदारों का शराबियों के साथ पैसों के लेनदेन को लेकर आए दिन विवाद होता रहता है पुलिस प्रशासन यह सब जान कर भी अंजान बना हुआ है।

बताते चलें कि शाहाबाद थाना क्षेत्र के अंतर्गत कस्बे में दो स्थानों पर शराब की तीन तीन दुकानें हैं जिनमें देसी अंग्रेजी और बीयर की दुकानें शामिल हैं यह दुकाने शाहाबाद के अल्लापुर तिराहे पर और कोतवाली के लगभग सामने मौजूद हैं। अल्लापुर तिराहा भी शाहाबाद कोतवाली से दूरी पर नहीं है। इन शराब की दुकानों के पास गुमटी वाले ठेले वाले और आसपास के मौजूद दुकानदार कोल्ड ड्रिंक सोडा नमकीन डिस्पोजल और ठंडे पानी की व्यवस्था के साथ अपनी दुकानदारी शराब चला पिलाकर चलाते हैं। यह स्थान एक तरह से शराबियों के लिए अड्डा बन चुका है जहां पर लोग शराब पीने आते हैं क्योंकि उनके लिए तो यह बहुत ही राहत की बात है कि शराब दुकान से खरीदने के बाद कहीं दूर जाकर उन्हें नहीं पीनी पड़ती बल्कि वह बगल में ही बैठकर शराब पीते हैं और दुकानदार इसलिए शराब पिलाते हैं क्योंकि उन्हें महंगी कीमत में पानी की बोतल डिस्पोजल नमकीन सोडा आदि सामग्री बेचने का फायदा मिलता हैं जिससे उनकी मोटी कमाई होती है। लेकिन यह दुकानदार यह भूल चुके हैं कि शराब सर अनेक स्थानों पर पीना और पिलाना दोनों कानूनन अपराध है और यही वजह है कि वहां पर पैसों के लेनदेन को लेकर के इसलिए आए दिन विवाद होता रहता है क्योंकि वह सामग्री भी महंगी कीमत पर बेचते हैं। आपको बताना है कि कल दिन गुरुवार को शाहाबाद के अल्लापुर तिराहे पर स्थित शराब की दुकानों के पास स्थित दुकानदार मैं दो अज्ञात व्यक्तियों पर हमला कर दिया जिससे दोनों लोगों में हाथापाई होने लगी और एक दूसरे को चोटें भी आई। मौके पर पहुंचे कोतवाली शाहाबाद में तैनात एसआई ज्ञानेश दुबे ने मामले को शांत तो करा दिया लेकिन वह दुकानदारों से सिर्फ सामान्य रूप से शराब ना पिलाने को कह कर चले गए। लेकिन इतना करने से यह लोग बाज नहीं आने वाले क्योंकि अगर पुलिस ने पहले ही इन सब बातों पर शिकंजा कस रखा होता तो शायद आए दिन वहां पर विवाद नहीं हो रहा होता और कानून व्यवस्था ही बरकरार रहती। इस संबंध में जब शाहाबाद प्रभारी निरीक्षक शिव शंकर सिंह जी से बात की गई तो उन्होंने बात आबकारी इंस्पेक्टर के ऊपर टालमटोल करते हुए डाल दी। उसके बाद जब क्षेत्राधिकारी से बात की गई तो उनका भी कहना कुछ इसी प्रकार रहा। जब इस संबंध में जिला आबकारी अधिकारी रवि शंकर से बात की गई तो उन्होंने कहा कि हम शराब दुकान के अंदर के जिम्मेदार हैं या फिर कहीं पर बड़ी मात्रा में अवैध शराब बरामद की जाती है तो भी हमारा डिपार्टमेंट उसका जिम्मेदार है लेकिन कहीं पर शराब पीकर विवाद होता है तो उसकी जिम्मेदारी क्षेत्रीय पुलिस की होगी उसे वहां पर शराब पीना बंद करवाना चाहिए। भाई जब अपर पुलिस अधीक्षक पश्चिमी कपिल देव सिंह जी से बात की गई तो उन्होंने कहा की तत्काल प्रभाव से उचित कार्यवाही की जाएगी। अब देखना यह है कि शाहाबाद में शराब पिलाने के  यह जो मुख्य दो अड्डे हैं यह बंद होते हैं या नहीं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव