तबाही मचाने वाली पहाड़ी नदियों की लहरो को मोड़ने की तैयारी कर रहा प्रशासन

 


नदियों के कटान से सहम गयी जनता अधिकारी ले रहे जायजा

सेउता (सीतापुर )।  क्षेत्र के कम्हरिया शेखूपुर को नदी के कटान से बचाव के प्रयास तेज हो गए हैं । रविवार को गाँव के किनारे ड्रेजिंग  करवाकर उसकी धारा मोड़ने के लिये लखनऊ से तकनीकी दल नाव से दोनों छोरों का निरीक्षण करने के बाद सोमवार को नाव पर बैठकर अधिशासी अभियंता विशाल पोरवाल ने  प्रधान कमला कान्त ,मथुरा प्रसाद अवस्थी के साथ ड्रोन कैमरों से फोटो खींचे ।  शारदा नदी के घटते जलस्तर के बाद उसने  क्षेत्र के कम्हरिया शेखुपुर में कटान करना शुरू कर दिया ।कटान की सूचना पर मौके पर आए विधायक से ग्रामीणों ने गांव को बचाने के लिये ड्रेजिंग करवाने की मांग की जिन्होंने आश्वासन दिया कि जो भी जरूरत पड़ेगी उसे पूरा कर नदी को कटान करने से रोका जाएगा । गुरुवार को सिंचाई विभाग द्वारा कराए गए स्टड व परक्यू पाइन को ध्वस्त करते हुए उसने गाँव के उमाशंकर के मकान को काटते हुए आगे की ओर रुख कर दिया । शुक्रवार को  इसकी जानकारी होते ही सिंचाई विभाग के अधिकारियों द्वारा मौके पर पहुंचकर नदी के वेग को रोकने के प्रयास शुरू किये ।सूचना पाकर मौके पर पहुंचे क्षेत्रीय विधायक ज्ञान तिवारी ने भी स्थलीय भृमण कर जहाँ लोगों को आश्वस्त किया कि गाँव को हरहाल में नदी के कटान से बचाया जाएगा ।वहीं ग्रामीणों की इस भयावह समस्या की सूचना फोन से जलमंत्री को देते हुए गाँव के सामने लगभग 700 मीटर ड्रेजिंग करवाने का अनुरोध किया । ड्रेजिंग के लिये मंत्री जी के निर्देश पर रविवार को लखनऊ से एक तकनीकी विशेषज्ञों का दल कम्हरिया शेखुपुर पहुंचा जिसने गांव के सामने नदी के दोनों छोरों का निरीक्षण किया । गाँव को कटान से बचाने के बाबत सोमवार को सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता विशाल पोरवाल व एस डीओ अभिलाष सिंह ने ड्रोन कैमरे से नदी की धार को मोड़ने की परख की ।ग्रामीणों का कहना है कि यदि समय रहते गाँव के सामने नदी में ड्रेजिंग कार्य पूरा न न हुआ तो नदी बड़ी तबाही मचा सकती है ।गाँव के सुनील कुमार , मिश्रीलाल पाण्डेय , मोनू, राकेश , जुगुल किशोर  ,जमुनाप्रसाद आदि का कहना है कि हम लोग काफी दिनों से बराबर माँग करते रहे कि किनारे की मरम्मत समय रहते करवाई जाए ।अगस्त में भ्रमण पर आई नोडल अधिकारी मिनिस्ती एस व इसी साल मार्च में भृमण पर आए जिलाधिकारी से इस बाबत अवगत कराया गया जिनके आश्वासन के बावजूद आज कटान की भयंकर समस्या सामने खड़ी है । कटान के बाद चेते सिंचाई परियोजना से जुड़े अधिकारी इस समय दिनरात डटे हैं इससे ग्रामीणों में थोड़ा खौफ कम हुआ है  हालांकि बाढ़ का पूरा मौसम अभी बाकी है । अधिशासी अभियंता विशाल पोरवाल ने बताया कि गाँव को कटान से बचाने के हरसंभव प्रयास किये जा रहे हैं ।ड्रेजिंग की अनुमति मिलने के बाद गाँव के पहले से नदी की धारा मोड़ने की रिपोर्ट भेजने के लिए ड्रोन कैमरों से वीडियो ग्राफी करवाकर उच्चाधिकारियों को भेजी जा रही है ।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक