लोगो की लापरवाही का सामने आया नतीजा जिले में बढ़ा कोरोना

 


सीतापुर।
एक लापरवाही कोरोना को टूट रही चेन को मजबूत कर  सकती है। इंसान की एक लापरवाही कोरोना को फिर से ताकतवर बना सकती है इस कारण कोरोना को पूरी तरह से हराने के लिये कोरोना प्रोटोकाल का पालन करना बेहद जरूरी है। जनता की लापरवाही का नतीजा सामने आ गया है। जनता द्वारा कोरोना प्रोटोकाल का पालन पूरी ईमानदारी के साथ नही किया जिसके चलते पिछले चैबिस घण्टो के दौरान फिर से नौ मरीज कोरोना से संक्रमित हुए है। गौरतलब हो कि  जिले में कोरोना का संक्रमण एक दिन पहले जहां राहत भरी खबर लेकर आया था। वहीं, दूसरे दिन लोगों द्वारा बरती जा रही लापरवाही का परिणाम फिर सामने आया है। एक दिन में नौ केस मिले हैं। शुक्रवार को महज एक केस मिला था। इससे जिले में संक्रमण का ग्राफ फिर से बढ़ने लगा है। जिले में एक्टिव केसों की संख्या 65 हो गई है।जिले में शुक्रवार को जब केवल एक केस आया तो हर तरफ लोग राहत महसूस कर रहे थे। लोगों का कहना था, अब जिले से कोरोना का संक्रमण चल गया है। इक्का दुक्का ही केस आ रहे है। स्वास्थ्य विभाग रोजाना तीन हजार जांच कर रहा है। जब एक केस मिला तो वह भी अपनी पीठ थपथपाने लगा। लेकिन यह खुशी अधिक देर तक नहीं टिक सकी।शनिवार को स्वास्थ्य विभाग ने रिपोर्ट जारी की, जिसमें नौ लोग संक्रमित मिले। सभी संक्रमितों को स्वास्थ्य विभाग द्वारा दवाइयां दी गई है। इनको होम आइसोलेट कर दिया गया है। अब जिले में एक्टिव केसों की संख्या 65 हो गई है। राहत की खबर यह है कि कोरोना से किसी की भी मौत नहीं हुई है। मौतों का आंकड़ा 177 तक पहुंच चुका है।अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. पीके सिंह का कहना है कि लापरवाही की वजह से केस बढ़ रहे हैं। संक्रमण कम होने के बाद राहत जरूर है। लेकिन बाजारों में बढ़ती भीड़ से संक्रमण बढ़ने की आशंका है। डॉ. मधु गैरोला, सीएमओ ने कहा कि किसी भी हालात में प्रोटोकॉल का पालन करना न भूलें। पॉजिटिव मामले मिल रहे हैं पर लोग भी उतनी ही तेजी से ठीक हो रहे हैं। इसी वजह से एक्टिव मामले घट रहे हैं। हां नौ केस आने से थोड़ा संक्रमण बढ़ा जरूर है। इसलिए कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते रहें।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव