बीस साल पुरानी टूटी परंपरा,मुन्नी देवी गौतम ने किया नामांकन


 
हरदोई।जिले में जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए हो रहे चुनाव में समाजवादी पार्टी की तरफ से सपा विधायक राजपाल कश्यप की अगुवाई में मुन्नी देवी गौतम में पर्चा भरा। के मुन्नी देवी गौतम नामंकन करते ही जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव को लेकर 20 साल से चली आ रही परंपरा भी टूट गई। जिसका श्रेय समाजवादी पार्टी (सपा) के विधायक राजपाल कश्यप को जाता है। जानकारी के लिए बता दें कि इस बार बीस सालों बाद जिले में जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए डॉ. कश्यप की वजह से ही दूसरा कोई नामांकन कर पाया है।

      बताते चलें बीस साल पूर्व जिले के कद्दावर नेता नरेश अग्रवाल लोकतांत्रिक पार्टी में थे। उनके भाई मुकेश अग्रवाल जिला पंचायत अध्यक्ष पद के रूप में प्रत्याशी थे सत्ता दल के प्रभाव और नरेश अग्रवाल की ताकत के चलते जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए कोई नामांकन ही नहीं हो पाया। एक प्रत्याशी नामांकन करने के लिए आगे आया लेकिन उनका नामांकन नहीं हो सका। तब यह प्रक्रिया लगातार चली आ रही थी। दरसअल प्रत्येक चुनाव के दौरान नरेश अग्रवाल सत्ता दल में होते हैं। उनके आगे विपक्ष का कोई भी नेता प्रत्याशी उतारने की हिम्मत ही नहीं कर पाता है। जबकि सभी प्रमुख राजनैतिक दलों के लोग जिले में राजनीति करते हैं।इस बार भाजपा प्रत्याशी प्रेमा वती के समर्थन में नरेश अग्रवाल हैं। भाजपा सत्ता में भी है लेकिन इस बार समाजवादी पार्टी के विधायक राजपाल कश्यप ने स्वयं नामांकन कक्ष में पहुंचकर समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी मुन्नी देवी गौतम का नामांकन कराया। चुनाव का परिणाम कुछ भी हो लेकिन बीस वर्षों बाद वह इतिहास बदल गया। जिसमें सत्ता दल के नरेश अग्रवाल के सामने कोई नामांकन ही नहीं कराता था। इस बार यह प्रक्रिया डॉ .कश्यप के हौसलों से ही संभव हो सकी।
    अपने प्रत्याशी व कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ाने के लिए वह स्वयं लखनऊ से आए और कलेक्ट्रेट पहुंचकर उन्होंने समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी का नामांकन दाखिल कराया। इस नामांकन के साथ ही जिले में बीस साल से निर्विरोध जिला पंचायत अध्यक्ष होने की परंपरा टूट गई। नामांकन के दौरान समाजवादी पार्टी के विधायक मिसबाहुद्दीन जिलाध्यक्ष जितेंद्र वर्मा पूर्व जिला अध्यक्ष पदम राज सिंह अनिल सिंह बीरू मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक