युवाओं में बढ़ रहा सोशल मीडिया पर अवैध असलहों के प्रदर्शन का शौक


 वायरल तस्वीरे उठा रही सीतापुर पुलिस की कार्यशैली पर सवाल 

सीतापुर युवाओं में फेसबुक, वाट्सएप और ट्विटर जैसी सोशल साइट्स पर रुतबा दिखाने के लिए अवैध असलहे के साथ फोटो टैग करना अब सीतापुर जनपद में आम बात होती दिखाई दे रहे जिले की पुलिस की लापरवाही  के कारण  अवैध असलहों का प्रदर्शन करने वालो में अब पुलिस का डर दिन प्रतिदिन कम होता दिखाई दे रहा है जबकि जारी आदेशानुसार सार्वजनिक तौर पर लाइसेंसी या गैर लाइसेंसी  असलहों का प्रदर्शन करना प्रतिबंधित है। शिकायत होने पर ऐसे लोगो  को जेल की सलाखों के पीछे रहना पड़ सकता है और भारी-भरकम जुर्माना भी अदा करना पड़ सकता है। असलहा अगर   लाइसेंसी भी है तो   उसका सार्वजनिक प्रदर्शन पूरी तरह से गैर कानूनी है। ऐसा करना असलहा लाइसेंस जारी करने के लिए तय शर्तों के उल्लंघन एवं असलहे के दुरुपयोग की परिधि में आता है। सोशल मीडिया पूरी तरह से सार्वजनिक मंच है। लिहाजा वहां लाइसेंसी या गैर लाइसेंसी दोनों प्रकार स्व असलहे के साथ फोटो टैग करना सार्वजनिक प्रदर्शन के दायरे में आता है। आर्म्स एक्ट की धारा 3ध्27 के तहत मुकदमा दर्ज करने का प्रावधान है। इसमें आरोपी को  जेल हो सकती है।  कानून में असलहा लाइसेंस अनिवार्य रूप से निरस्त करने का भी निर्देश है।सोशल मीडिया पर असलहों का प्रदर्शन करते हुए फोटो लगाना गैर कानूनी है।सोशल मीडिया पर असलहों के साथ तस्वीरें अपलोड करने वालो पर आईटी एक्ट के तहत  सजा का प्रवधान हैं। अच्छा तो यही होगा कि जो लोग  सोशल मीडिया से ऐसी तस्वीरें अपलोड किये है जल्द से जल्द हटा लें नहीं तो पुलिस द्वारा भी दरवाजे पर दस्तक दिया जा सकती है और  ऐसे लोगो की  सूची तैयार कर   पुलिस द्वारा  मुकदमा भी दर्ज किया जा सकता है । साथ ही अगर शस्त्र का लाइसेंस  है तो निरस्तीकरण की कार्रवाई भी की जा  सकती है ।  जारी आदेश के बाद भी सीतापुर जनपद में युवाओं द्वारा दिन प्रतिदिन सोशल नेटवर्क साइट्स पर इन दिनों अवैध  असलहे के साथ अपनी फोटो टैग करने का चलन सा हो गया है। कई लोग तो  अवैध असलहों के साथ अपनी फोटो अपने फेसबुक पेज पर टैग कर रहे हैं।  तो कुछ लोग समूह में असलहों का प्रदर्शन करते हुए फोटो दिखाना भी आम बात हो गई है।  सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार   पुलिस को लगातार शिकायतें मिल रही है  इसके बाद भी ऐसे लोगो पर सीतापुर पुलिस द्वारा कार्यवाही न करके मामले को चैकी  व थाना स्तर तक ही राफ दफा करने का प्रयास किया  जा रहा जोकि आमदनी का जरिया भी बनता दिखाई दे रहा  है  पुलिस द्वारा यह  भी जानने की कोशिश नही की जा रही है आखिर कलम पकड़ने वालो हाथों में  यह अवैध हथियार कहा से आ रहे है जबकि यह लोग  हथियारों के साथ सोशल मीडिया पर अपनी तस्वीरें अपलोड करने के साथ भय पैदा करने वाले संदेश पोस्ट करते हैं। सोशल मीडिया पर सर्च करने पर कई ऐसे दबंग मिल जाएंगे जो एक दो नहीं बल्कि हथियारों के जखीरे के साथ बड़े शान से तस्वीर खिंचवा कर अपलोड कर रखे हैं। इन्हीं फोटो पर मिले लाइक्स व कमेंट को लेकर सीना फुलाकर आसपास के इलाकों में धौंस जमाते हैं। सोशल मीडिया पर कई लोग इनके प्रभाव में आकर इनसे जुड़ने लगते हैं जो धीरे-धीरे गैंग के रूप में तब्दील हो जाते हैं।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Sitapur Breaking News :पत्नी से़ छुब्ध होकर युवक ने लगाई फांसी।

यूपी में बैंक के समय में हुआ बड़ा बदलाव

उत्तर प्रदेश में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट की अनिवार्यता पर रोक